Nida Fazli's Photo'

निदा फ़ाज़ली

1938 - 2016 | मुंबई, भारत

महत्वपूर्ण आधुनिक शायर और फ़िल्म गीतकार। अपनी ग़ज़ल ' कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता ' के लिए प्रसिद्ध

महत्वपूर्ण आधुनिक शायर और फ़िल्म गीतकार। अपनी ग़ज़ल ' कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता ' के लिए प्रसिद्ध

निदा फ़ाज़ली के वीडियो

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

निदा फ़ाज़ली

Besan ki saundhi roti par khatti chatni jesi maa

Nida fazli was born in Delhi. Nida Fazli is a poet lyricist. He moved to Mumbai in a search for job in the early days of his career.His poetic style attracted the notice of filmmakers and writer of Hindi and Urdu literature. He recited his poetry for Rekhta.org निदा फ़ाज़ली

Dohe

निदा फ़ाज़ली

Jise dekhte hi khumari lage

Nida fazli was born in Delhi. Nida Fazli is a poet lyricist. He moved to Mumbai in a search for job in the early days of his career.His poetic style attracted the notice of filmmakers and writer of Hindi and Urdu literature. He recited his poetry for Rekhta.org निदा फ़ाज़ली

Koshish ke bawajood ye ilzaam reh gaya

Nida fazli was born in Delhi. Nida Fazli is a poet lyricist. He moved to Mumbai in a search for job in the early days of his career.His poetic style attracted the notice of filmmakers and writer of Hindi and Urdu literature. He recited his poetry for Rekhta.org निदा फ़ाज़ली

Nida Fazli at a mushaira

निदा फ़ाज़ली

Walid ki Wafaat Par by Nida Fazli

Nida fazli was born in Delhi. Nida Fazli is a poet lyricist. He moved to Mumbai in a search for job in the early days of his career.His poetic style attracted the notice of filmmakers and writer of Hindi and Urdu literature. He recited his poetry for Rekhta.org निदा फ़ाज़ली

कोशिश के बावजूद ये इल्ज़ाम रह गया

निदा फ़ाज़ली

जिसे देखते ही ख़ुमारी लगे

निदा फ़ाज़ली

वालिद की वफ़ात पर

तुम्हारी क़ब्र पर निदा फ़ाज़ली

वीडियो का सेक्शन
शायरी वीडियो
Interview of Nida Fazli

निदा फ़ाज़ली

Nida Fazli in conversation with Zamarrud Mughal for Rekhta.org

Nida fazli was born in Delhi. Nida Fazli is a poet lyricist. He moved to Mumbai in a search for job in the early days of his career.His poetic style attracted the notice of filmmakers and writer of Hindi and Urdu literature. Here are some of his excerpts for Rekhta.org निदा फ़ाज़ली

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Badla na apne aap ko

Badla na apne aap ko भारती विश्वनाथन

एरिक डेविड

अपना ग़म ले के कहीं और न जाया जाए

अपना ग़म ले के कहीं और न जाया जाए अज्ञात

अब ख़ुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला

अब ख़ुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला जगजीत सिंह

इंसान में हैवान यहाँ भी है वहाँ भी

इंसान में हैवान यहाँ भी है वहाँ भी अज्ञात

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा घनशयाम वासवानी

कुछ तबीअ'त ही मिली थी ऐसी चैन से जीने की सूरत न हुई

कुछ तबीअ'त ही मिली थी ऐसी चैन से जीने की सूरत न हुई चंदन दास

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई पंकज उदास

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता अज्ञात

गिरजा में मंदिरों में अज़ानों में बट गया

गिरजा में मंदिरों में अज़ानों में बट गया अज्ञात

घर से निकले तो हो सोचा भी किधर जाओगे

घर से निकले तो हो सोचा भी किधर जाओगे दीपेन हालदार

चाँद से फूल से या मेरी ज़बाँ से सुनिए

चाँद से फूल से या मेरी ज़बाँ से सुनिए जगजीत सिंह

तन्हा तन्हा दुख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गाएँगे

तन्हा तन्हा दुख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गाएँगे ग़ुलाम अली

दुनिया जिसे कहते हैं जादू का खिलौना है

दुनिया जिसे कहते हैं जादू का खिलौना है जगजीत सिंह

दो चार गाम राह को हमवार देखना

दो चार गाम राह को हमवार देखना चंदन दास

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो अज्ञात

नज़दीकियों में दूर का मंज़र तलाश कर

नज़दीकियों में दूर का मंज़र तलाश कर चंदन दास

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता अज्ञात

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता अज्ञात

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता जगजीत सिंह

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता निदा फ़ाज़ली

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता अज्ञात

बेसन की सौंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ

बेसन की सौंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ Urdu Studio

बेसन की सौंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ

बेसन की सौंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ पंकज उदास

बिंदराबन के कृष्ण-कन्हैया अल्लाह-हू

बिंदराबन के कृष्ण-कन्हैया अल्लाह-हू अज्ञात

मैं रोया परदेस में भीगा माँ का प्यार

मैं रोया परदेस में भीगा माँ का प्यार जगजीत सिंह

मुँह की बात सुने हर कोई दिल के दर्द को जाने कौन

मुँह की बात सुने हर कोई दिल के दर्द को जाने कौन जगजीत सिंह

रात के बा'द नए दिन की सहर आएगी

रात के बा'द नए दिन की सहर आएगी अज्ञात

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो चित्रा सिंह

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा तलअत अज़ीज़

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा जगजीत सिंह

हर तरफ़ हर जगह बे-शुमार आदमी

हर तरफ़ हर जगह बे-शुमार आदमी जगजीत सिंह

हर तरफ़ हर जगह बे-शुमार आदमी

हर तरफ़ हर जगह बे-शुमार आदमी निदा फ़ाज़ली

होश वालों को ख़बर क्या बे-ख़ुदी क्या चीज़ है

होश वालों को ख़बर क्या बे-ख़ुदी क्या चीज़ है जगजीत सिंह

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

शायरी वीडियो

अन्य वीडियो

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI