Nooh Narvi's Photo'

नूह नारवी

1878 - 1962

अपने बेबाक लहजे के लिए विख्यात / ‘दाग़’ दहलवी के शागिर्द

अपने बेबाक लहजे के लिए विख्यात / ‘दाग़’ दहलवी के शागिर्द

ग़ज़ल 82

शेर 90

अदा आई जफ़ा आई ग़ुरूर आया हिजाब आया

हज़ारों आफ़तें ले कर हसीनों पर शबाब आया

  • शेयर कीजिए

हम इंतिज़ार करें हम को इतनी ताब नहीं

पिला दो तुम हमें पानी अगर शराब नहीं

  • शेयर कीजिए

सुनते रहे हैं आप के औसाफ़ सब से हम

मिलने का आप से कभी मौक़ा नहीं मिला

  • शेयर कीजिए

दिल के दो हिस्से जो कर डाले थे हुस्न-ओ-इश्क़ ने

एक सहरा बन गया और एक गुलशन हो गया

  • शेयर कीजिए

ख़ुदा के डर से हम तुम को ख़ुदा तो कह नहीं सकते

मगर लुत्फ़-ए-ख़ुदा क़हर-ए-ख़ुदा शान-ए-ख़ुदा तुम हो

For fear of God, to you cannot, ascribe divinity

but joy divine, wrath divine, glory divine you be

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Ejaz-e-Nooh

 

 

Ejaz-e-Nooh

Volume- 003

 

कलाम-ए-हिज्र

 

1914

 

चित्र शायरी 1

सुनते रहे हैं आप के औसाफ़ सब से हम मिलने का आप से कभी मौक़ा नहीं मिला

 

वीडियो 6

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

पंकज उदास

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

कूचा-ए-यार में कुछ दूर चले जाते हैं

भारती विश्वनाथन

संबंधित शायर

  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी समकालीन
  • उम्मीद फ़ाज़ली उम्मीद फ़ाज़ली शिष्य