Nooh Narvi's Photo'

नूह नारवी

1878 - 1962

अपने बेबाक लहजे के लिए विख्यात / ‘दाग़’ दहलवी के शागिर्द

अपने बेबाक लहजे के लिए विख्यात / ‘दाग़’ दहलवी के शागिर्द

5.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

अदा आई जफ़ा आई ग़ुरूर आया हिजाब आया

हज़ारों आफ़तें ले कर हसीनों पर शबाब आया

हम इंतिज़ार करें हम को इतनी ताब नहीं

पिला दो तुम हमें पानी अगर शराब नहीं

सुनते रहे हैं आप के औसाफ़ सब से हम

मिलने का आप से कभी मौक़ा नहीं मिला

दिल के दो हिस्से जो कर डाले थे हुस्न-ओ-इश्क़ ने

एक सहरा बन गया और एक गुलशन हो गया

ख़ुदा के डर से हम तुम को ख़ुदा तो कह नहीं सकते

मगर लुत्फ़-ए-ख़ुदा क़हर-ए-ख़ुदा शान-ए-ख़ुदा तुम हो

For fear of God, to you cannot, ascribe divinity

but joy divine, wrath divine, glory divine you be

मिलना जो हो तुम को तो कह दो मिलेंगे

ये क्या कभी परसों है कभी कल है कभी आज

दोस्ती को बुरा समझते हैं

क्या समझ है वो क्या समझते हैं

कहीं उन की नज़र से नज़र किसी की लड़े

वो इस लिहाज़ से आँखें झुकाए बैठे हैं

इश्क़ में कुछ नज़र नहीं आया

जिस तरफ़ देखिए अँधेरा है

कह रही है ये तिरी तस्वीर भी

मैं किसी से बोलने वाली नहीं

बरसों रहे हैं आप हमारी निगाह में

ये क्या कहा कि हम तुम्हें पहचानते नहीं

मिलो खुल के तो चोरी की मुलाक़ात रहे

हम बुलाएँगे तुम्हें रात गए रात रहे

जब ज़िक्र किया मैं ने कभी वस्ल का उन से

वो कहने लगे पाक मोहब्बत है बड़ी चीज़

महफ़िल में तेरी के ये बे-आबरू हुए

पहले थे आप आप से तुम तुम से तू हुए

अश्कों के टपकने पर तस्दीक़ हुई उस की

बे-शक वो नहीं उठते आँखों से जो गिरते हैं

कम्बख़्त कभी जी से गुज़रने नहीं देती

जीने की तमन्ना मुझे मरने नहीं देती

उन से सब हाल दग़ाबाज़ कहे देते हैं

मेरे हमराज़ मिरा राज़ कहे देते हैं

अच्छे बुरे को वो अभी पहचानते नहीं

कमसिन हैं भोले-भाले हैं कुछ जानते नहीं

मुझ को ये फ़िक्र कि दिल मुफ़्त गया हाथों से

उन को ये नाज़ कि हम ने उसे छीना कैसा

लैला है मजनूँ है शीरीं है फ़रहाद

अब रह गए हैं आशिक़ माशूक़ में हम आप

आज आएँगे कल आएँगे कल आएँगे आज आएँगे

मुद्दत से यही वो कहते हैं मुद्दत से यही हम सुनते हैं

आते आते राह पर वो आएँगे

जाते जाते बद-गुमानी जाएगी

बे-वज्ह मोहब्बत से नहीं बोल रहे हैं

वो बातों ही बातों में मुझे खोल रहे हैं

उन का वा'दा उन का पैमाँ उन का इक़रार उन का क़ौल

जितनी बातें हैं हसीनों की वो बे-बुनियाद हैं

जिगर की चोट ऊपर से कहीं मा'लूम होती है

जिगर की चोट ऊपर से नहीं मा'लूम होती है

दिल को तुम शौक़ से ले जाओ मगर याद रहे

ये मेरा तुम्हारा किसी का होगा

वो हाथ में तलवार लिए सर पे खड़े हैं

मरने नहीं देती मुझे मरने की ख़ुशी आज

कोई यहाँ से चल दिया रौनक़-ए-बाम-ओ-दर नहीं

देख रहा हूँ घर को मैं घर है मगर वो घर नहीं

वो ख़ुदाई कर रहे थे जब ख़ुदा होने से क़ब्ल

तो ख़ुदा जाने करेंगे क्या ख़ुदा होने के बा'द

साक़ी जो दिल से चाहे तो आए वो ज़माना

हर शख़्स हो शराबी हर घर शराब-ख़ाना

ख़ाक हो कर ही हम पहुँच जाते

उस तरफ़ की मगर हवा भी नहीं

हमें इसरार मिलने पर तुम्हें इंकार मिलने से

तुम मानो हम मानें ये कम हो वो कम हो

'नूह' तौबा इश्क़ से कर ली थी आप ने

फिर ताँक-झाँक क्यूँ है ये फिर देख-भाल क्या

ग़ैर का इश्क़ है कि मेरा है

साफ़ कह दो अभी सवेरा है

दिल उन्हें देंगे मगर हम देंगे इन शर्तों के साथ

आज़मा कर जाँच कर सुन कर समझ कर देख कर

नूह बैठे हैं चारपाई पर

चारपाई पे नूह बैठे हैं

ये मेरे पास जो चुप-चाप आए बैठे हैं

हज़ार फ़ित्ना-ए-महशर उठाए बैठे हैं

असीरान-ए-क़फ़स को वास्ता क्या इन झमेलों से

चमन में कब ख़िज़ाँ आई चमन में कब बहार आई

चलो 'नूह' तुम को दिखा लाएँ तुम ने

मय-ख़ाना देखा बुत-ख़ाना देखा

वो बात क्या जो और की तहरीक से हुई

वो काम क्या जो ग़ैर की इमदाद से हुआ

शर्मा के बिगड़ के मुस्कुरा कर

वो छुप रहे इक झलक दिखा कर

अभी उस क़यामत को मैं क्या कहूँ

जो गुज़रेगी जी से गुज़रने के बा'द

दम जो निकला तो मुद्दआ निकला

एक के साथ दूसरा निकला

का'बा हो दैर हो दोनों में है जल्वा उस का

ग़ौर से देखे अगर देखने वाला उस का

पामाल हो के भी उठा कू-ए-यार से

मैं उस गली में साया-ए-दीवार हो गया

अल्लाह-रे उन के हुस्न की मोजिज़-नुमाइयाँ

जिस बाम पर वो आएँ वही कोह-ए-तूर हो

मुझ को नज़रों के लड़ाने से है काम

आप को आँखें दिखाने से ग़रज़

कुछ और बन पड़ी सवाल-ए-विसाल पर

हैरत से देख कर वो मिरे मुँह को रह गए

'नूह' खुल चले थे वो हम से शब-ए-विसाल

इतने में आफ़्ताब नुमूदार हो गया

तुम्हारी शोख़-नज़र इक जगह कभी रही

ये थमी ये ठहरी ये रुकी रही