Nooh Narvi's Photo'

नूह नारवी

1879 - 1962

अपने बेबाक लहजे के लिए विख्यात / ‘दाग़’ दहलवी के शागिर्द

अपने बेबाक लहजे के लिए विख्यात / ‘दाग़’ दहलवी के शागिर्द

ग़ज़ल 82

शेर 89

अदा आई जफ़ा आई ग़ुरूर आया हिजाब आया

हज़ारों आफ़तें ले कर हसीनों पर शबाब आया

  • शेयर कीजिए

हम इंतिज़ार करें हम को इतनी ताब नहीं

पिला दो तुम हमें पानी अगर शराब नहीं

  • शेयर कीजिए

सुनते रहे हैं आप के औसाफ़ सब से हम

मिलने का आप से कभी मौक़ा नहीं मिला

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 3

Ejaz-e-Nooh

 

 

Ejaz-e-Nooh

 

 

कलाम-ए-हिज्र

 

1914

 

वीडियो 10

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

अज्ञात

आप जिन के क़रीब होते हैं

पंकज उदास

कूचा-ए-यार में कुछ दूर चले जाते हैं

भारती विश्वनाथन

संबंधित शायर

  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी समकालीन
  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी समकालीन