Pandit Jagmohan Nath Raina Shauq's Photo'

पंडित जगमोहन नाथ रैना शौक़

1863 | शाहजहाँपुर, भारत

ई-पुस्तक 4

Bahar-e-Gulshan-e-Kashmeer

Volume-001

1931

Payam-e-Shauq

Part-002

1947

 

चित्र शायरी 1

कौन सी वो शम्अ' थी जिस का मैं परवाना हुआ और फिर लौ भी लगी ऐसी कि दीवाना हुआ साक़ी-ए-सर-मस्त से जब तक कि लेने को बढ़ूँ हाथ से गिरते ही चकना-चूर पैमाना हुआ दिल हरीम-ए-नाज़ से ले कर तो हम निकले मगर हो गया आलम कुछ ऐसा सब से बेगाना हुआ ख़ैर थी उल्फ़त में दिल ने रंग कुछ बदला न था अब तमाशा देखिएगा वो भी दीवाना हुआ हम ने जाने क्या कहा लोगों ने क्या समझा उसे सरगुज़िश्त-ए-दर्द-ए-दिल थी जिस का अफ़्साना हुआ फ़ैज़ साक़ी ने बदल दी सूरत-ए-दिल और ही पहले पैमाना था पैमाना से मय-ख़ाना हुआ मेरे लब तक आते आते क्यूँ छलक जाता है 'शौक़' जाम-ए-रंगीं साग़र-ए-मुल या कि पैमाना हुआ

 

"शाहजहाँपुर" के और शायर

  • रशीद शाहजहाँपुरी रशीद शाहजहाँपुरी
  • सिराज फ़ैसल ख़ान सिराज फ़ैसल ख़ान
  • साजिद सफ़दर साजिद सफ़दर
  • रौनक़ रज़ा रौनक़ रज़ा
  • जगदीश सहाय सक्सेना जगदीश सहाय सक्सेना
  • ताहिर तिलहरी ताहिर तिलहरी
  • नसीम शाहजहाँपुरी नसीम शाहजहाँपुरी
  • सय्यदा शान-ए-मेराज सय्यदा शान-ए-मेराज
  • दिल शाहजहाँपुरी दिल शाहजहाँपुरी
  • रविश सिद्दीक़ी रविश सिद्दीक़ी