ग़ज़ल 18

शेर 4

ये दिल अजीब है अक्सर कमाल करता है

जवाब जिन का नहीं वो सवाल करता है

  • शेयर कीजिए

ख़्वाब देखे थे टूट कर मैं ने

टूट कर ख़्वाब देखते हैं मुझे

पत्थर बना दे मुझे मौसम की ये सख़्ती

मर जाएँ मिरे ख़्वाब ताबीर के डर से

मैं शर की शरारत से तो होश्यार हूँ लेकिन

अल्लाह बचाए तो बचूँ ख़ैर के शर से

पुस्तकें 1

Dil Ki Hook

 

 

 

चित्र शायरी 1

ये दिल अजीब है अक्सर कमाल करता है जवाब जिन का नहीं वो सवाल करता है

 

"टेक्सास" के और शायर

  • इशरत आफ़रीं इशरत आफ़रीं
  • सरवर आलम राज़ सरवर आलम राज़
  • सय्यद सबा वासती सय्यद सबा वासती
  • तसनीम आबिदी तसनीम आबिदी