203
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

तिरे तसव्वुर की धूप ओढ़े खड़ा हूँ छत पर

मिरे लिए सर्दियों का मौसम ज़रा अलग है

रखे रखे हो गए पुराने तमाम रिश्ते

कहाँ किसी अजनबी से रिश्ता नया बनाएँ

सारे मंज़र हसीन लगते हैं

दूरियाँ कम हों तो बेहतर है

मुझ से कल महफ़िल में उस ने मुस्कुरा कर बात की

वो मिरा हो ही नहीं सकता ये पक्का कर दिया

हँस हँस के उस से बातें किए जा रहे हो तुम

'साबिर' वो दिल में और ही कुछ सोचता हो

हम उस की ख़ातिर बचा पाएँगे उम्र अपनी

फ़ुज़ूल-ख़र्ची की हम को आदत सी हो गई है

ये कारोबार-ए-मोहब्बत है तुम समझोगे

हुआ है मुझ को बहुत फ़ाएदा ख़सारे में

सभी मुसाफ़िर चलें अगर एक रुख़ तो क्या है मज़ा सफ़र का

तुम अपने इम्काँ तलाश कर लो मुझे परिंदे पुकारते हैं

फ़स्ल बोई भी हम ने काटी भी

अब कहना ज़मीन बंजर है

उस के शर से मैं सदा माँगता रहता हूँ पनाह

इसी दुनिया से मोहब्बत भी बला की है मुझे

सैंत कर ईमान कुछ दिन और रखना है अभी

आज-कल बाज़ार में मंदी है सस्ता है अभी

चिलचिलाती-धूप थी लेकिन था साया हम-क़दम

साएबाँ की छाँव ने मुझ को अकेला कर दिया

यहाँ पे हँसना रवा है रोना है बे-हयाई

सुक़ूत-ए-शहर-ए-जुनूँ का मातम ज़रा अलग है

ये क्या बद-मज़ाक़ी है गर्द झाड़ते क्यूँ हो

इस मकान-ए-ख़स्ता में यार हम भी रहते हैं