Saghar Azmi's Photo'

साग़र आज़मी

1944 - 2004 | बाराबंकी, भारत

ग़ज़ल 8

शेर 12

तुम क्या जानो अपने आप से कितना मैं शर्मिंदा हूँ

छूट गया है साथ तुम्हारा और अभी तक ज़िंदा हूँ

  • शेयर कीजिए

कश्मीर की वादी में बे-पर्दा जो निकले हो

क्या आग लगाओगे बर्फ़ीली चटानों में

तुम से मिलती-जुलती मैं आवाज़ कहाँ से लाऊँगा

ताज-महल बन जाए अगर मुम्ताज़ कहाँ से लाऊँगा

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 1

Kaghaz Ka Shahr

 

1987

 

चित्र शायरी 2

तुम से मिलती-जुलती मैं आवाज़ कहाँ से लाऊँगा ताज-महल बन जाए अगर मुम्ताज़ कहाँ से लाऊँगा

 

वीडियो 9

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Mushaira Saghar Azmi Ghazal HallaGulla Com Part 1

साग़र आज़मी

Mushaira Saghar Azmi Ghazal HallaGulla Com Part 2

साग़र आज़मी

Reciting own poetry

साग़र आज़मी

Saghar Azmi - 2001 - Mumbai - Part - 01

साग़र आज़मी

Saghar Azmi - 2001 - Mumbai - Part - 03

साग़र आज़मी

Saghar Azmi - Lucknow Mahotsav

साग़र आज़मी

Saghar Azmi 1

साग़र आज़मी

Saghar Azmi 2

साग़र आज़मी

फूलों से बदन उन के काँटे हैं ज़बानों में

साग़र आज़मी

ऑडियो 3

प्यास सदियों की है लम्हों में बुझाना चाहे

फूलों से बदन उन के काँटे हैं ज़बानों में

रात के अँधेरों को रौशनी वो क्या देगा

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

 

संबंधित शायर

  • रईस अंसारी रईस अंसारी समकालीन
  • अनवर जलालपुरी अनवर जलालपुरी समकालीन
  • ख़ुमार बाराबंकवी ख़ुमार बाराबंकवी समकालीन
  • शायर जमाली शायर जमाली समकालीन
  • मेराज फ़ैज़ाबादी मेराज फ़ैज़ाबादी समकालीन
  • कफ़ील आज़र अमरोहवी कफ़ील आज़र अमरोहवी समकालीन
  • राहत इंदौरी राहत इंदौरी समकालीन
  • मुनव्वर राना मुनव्वर राना समकालीन
  • वसीम बरेलवी वसीम बरेलवी समकालीन

"बाराबंकी" के और शायर

  • ख़ुमार बाराबंकवी ख़ुमार बाराबंकवी
  • अलीम उस्मानी अलीम उस्मानी
  • शम्सी मीनाई शम्सी मीनाई
  • बेदम शाह वारसी बेदम शाह वारसी