Saghar Siddiqui's Photo'

साग़र सिद्दीक़ी

1928 - 1974 | लाहौर, पाकिस्तान

साग़र सिद्दीक़ी के शेर

12.3K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

दिल-ए-बे-क़रार चुप हो जा

जा चुकी है बहार चुप हो जा

जिस अहद में लुट जाए फ़क़ीरों की कमाई

उस अहद के सुल्तान से कुछ भूल हुई है

मौत कहते हैं जिस को 'साग़र'

ज़िंदगी की कोई कड़ी होगी

तुम गए रौनक़-ए-बहार गई

तुम जाओ बहार के दिन हैं

लोग कहते हैं रात बीत चुकी

मुझ को समझाओ! मैं शराबी हूँ

कल जिन्हें छू नहीं सकती थी फ़रिश्तों की नज़र

आज वो रौनक़-ए-बाज़ार नज़र आते हैं

भूली हुई सदा हूँ मुझे याद कीजिए

तुम से कहीं मिला हूँ मुझे याद कीजिए

है दुआ याद मगर हर्फ़-ए-दुआ याद नहीं

मेरे नग़्मात को अंदाज़-ए-नवा याद नहीं

मैं आदमी हूँ कोई फ़रिश्ता नहीं हुज़ूर

मैं आज अपनी ज़ात से घबरा के पी गया

अदम के मुसाफ़िरो होशियार

राह में ज़िंदगी खड़ी होगी

काँटे तो ख़ैर काँटे हैं इस का गिला ही क्या

फूलों की वारदात से घबरा के पी गया

ज़िंदगी जब्र-ए-मुसलसल की तरह काटी है

जाने किस जुर्म की पाई है सज़ा याद नहीं

आज फिर बुझ गए जल जल के उमीदों के चराग़

आज फिर तारों भरी रात ने दम तोड़ दिया

अब कहाँ ऐसी तबीअत वाले

चोट खा कर जो दुआ करते थे

मर गए जिन के चाहने वाले

उन हसीनों की ज़िंदगी क्या है

चराग़-ए-तूर जलाओ बड़ा अंधेरा है

ज़रा नक़ाब उठाओ बड़ा अंधेरा है

हश्र में कौन गवाही मिरी देगा 'साग़र'

सब तुम्हारे ही तरफ़-दार नज़र आते हैं

ये किनारों से खेलने वाले

डूब जाएँ तो क्या तमाशा हो

मैं ने जिन के लिए राहों में बिछाया था लहू

हम से कहते हैं वही अहद-ए-वफ़ा याद नहीं

मैं तल्ख़ी-ए-हयात से घबरा के पी गया

ग़म की सियाह रात से घबरा के पी गया

बे-साख़्ता बिखर गई जल्वों की काएनात

आईना टूट कर तिरी अंगड़ाई बन गया

जिस अहद में लुट जाए ग़रीबों की कमाई

उस अहद के सुल्तान से कुछ भूल हुई है

अब अपनी हक़ीक़त भी 'साग़र' बे-रब्त कहानी लगती है

दुनिया की हक़ीक़त क्या कहिए कुछ याद रही कुछ भूल गए

हूरों की तलब और मय साग़र से है नफ़रत

ज़ाहिद तिरे इरफ़ान से कुछ भूल हुई है

रंग उड़ने लगा है फूलों का

अब तो जाओ! वक़्त नाज़ुक है

अब आएँगे रूठने वाले

दीदा-ए-अश्क-बार चुप हो जा

ग़म के मुजरिम ख़ुशी के मुजरिम हैं

लोग अब ज़िंदगी के मुजरिम हैं

एक वा'दा है किसी का जो वफ़ा होता नहीं

वर्ना इन तारों भरी रातों में क्या होता नहीं

हम बनाएँगे यहाँ 'साग़र' नई तस्वीर-ए-शौक़

हम तख़य्युल के मुजद्दिद हम तसव्वुर के इमाम

जब जाम दिया था साक़ी ने जब दौर चला था महफ़िल में

इक होश की साअत क्या कहिए कुछ याद रही कुछ भूल गए

छलके हुए थे जाम परेशाँ थी ज़ुल्फ़-ए-यार

कुछ ऐसे हादसात से घबरा के पी गया

नग़्मों की इब्तिदा थी कभी मेरे नाम से

अश्कों की इंतिहा हूँ मुझे याद कीजिए

ख़ाक उड़ती है तेरी गलियों में

ज़िंदगी का वक़ार देखा है

जिन से अफ़्साना-ए-हस्ती में तसलसुल था कभी

उन मोहब्बत की रिवायात ने दम तोड़ दिया

जिन से ज़िंदा हो यक़ीन आगही की आबरू

इश्क़ की राहों में कुछ ऐसे गुमाँ करते चलो

मुस्कुराओ बहार के दिन हैं

गुल खिलाओ बहार के दिन हैं

जो चमन की हयात को डस ले

उस कली को बबूल कहता हूँ

एक नग़्मा इक तारा एक ग़ुंचा एक जाम

ग़म-ए-दौराँ ग़म-ए-दौराँ तुझे मेरा सलाम

झिलमिलाते हुए अश्कों की लड़ी टूट गई

जगमगाती हुई बरसात ने दम तोड़ दिया

तक़दीर के चेहरे की शिकन देख रहा हूँ

आईना-ए-हालात है दुनिया तेरी क्या है

ज़ुल्फ़-ए-बरहम की जब से शनासा हुई

ज़िंदगी का चलन मुजरिमाना हुआ

दुनिया-ए-हादसात है इक दर्दनाक गीत

दुनिया-ए-हादसात से घबरा के पी गया

अब शहर-ए-आरज़ू में वो रानाइयाँ कहाँ

हैं गुल-कदे निढाल बड़ी तेज़ धूप है

तेरी सूरत जो इत्तिफ़ाक़ से हम

भूल जाएँ तो क्या तमाशा हो

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए