Waheed Allahabadi's Photo'

वहीद इलाहाबादी

1829 - 1892 | इलाहाबाद, भारत

वहीद इलाहाबादी

ग़ज़ल 4

 

अशआर 2

कुछ कह के उस ने फिर मुझे दीवाना कर दिया

इतनी सी बात थी जिसे अफ़्साना कर दिया

  • शेयर कीजिए

अब भी जाते तो रह जाती हमारी ज़िंदगी

बाद मरने के अगर ख़त का जवाब आया तो क्या

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 2

 

चित्र शायरी 1

 

संबंधित शायर

"इलाहाबाद" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए