aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

वलीउल्लाह मुहिब

- 1792 | लखनऊ, भारत

वलीउल्लाह मुहिब के शेर

5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

है मिरे पहलू में और मुझ को नज़र आता नहीं

उस परी का सेहर यारो कुछ कहा जाता नहीं

साक़ी हमें क़सम है तिरी चश्म-ए-मस्त की

तुझ बिन जो ख़्वाब में भी पिएँ मय हराम हो

दोनों तेरी जुस्तुजू में फिरते हैं दर दर तबाह

दैर हिन्दू छोड़ कर काबा मुसलमाँ छोड़ कर

दैर में का'बे में मयख़ाने में और मस्जिद में

जल्वा-गर सब में मिरा यार है अल्लाह अल्लाह

कीजे वो कि मियाँ जिस से दिल कोई हो मलूल

सिवाए इस के जो जी चाहे सो किया कीजे

इन दो के सिवा कोई फ़लक से हुआ पार

या तीर मिरी आह का या उस की नज़र का

दोस्ती छूटे छुड़ाए से किसू के किस तरह

बंद होता ही नहीं रस्ता दिलों की राह का

का'बे में वही ख़ुद है वही दैर में है आप

हिन्दू कहो या उस को मुसलमान वही है

कुछ देखा किसी मकान में हम

कहते हैं ला-मकान में कुछ है

ब-तस्ख़ीर-बुताँ तस्बीह क्यूँ ज़ाहिद फिराते हैं

ये लोहे के चने वल्लाह आशिक़ ही चबाते हैं

बरहमन दैर को राही हुआ और शैख़ का'बे को

निकल कर उस दोराहे से मैं कू-ए-यार में आया

शैख़ कहते हैं मुझे दैर जा काबा चल

बरहमन कहते हैं क्यूँ याँ भी ख़ुदा है कि नहीं

जो अपने जीते-जी को कुएँ में डुबोइए

तो चाह में किसी की गिरफ़्तार होइए

जब नशे में हम ने कुछ मीठे की ख़्वाहिश उस से की

तुर्श हो बोला कि क्यूँ बे तू भी इस लाएक़ हुआ

रहीम राम की सुमरन है शैख़ हिन्दू को

दिल उस के नाम की रटना रटे है क्या कीजे

काफ़िर हूँ गर मैं नाम भी का'बे का लूँ कभी

वो संग-दिल सनम जो कभू मुझ से राम हो

इश्क़ जब दख़्ल करे है दिल-ए-इंसाँ में 'मुहिब'

वाहिमे सब बशरिय्यत के करे है इख़राज

तमाम ख़ल्क़-ए-ख़ुदा ज़ेर-ए-आसमाँ की समेट

ज़मीं ने खाई व-लेकिन भरा उस का पेट

रक़ीब जम के ये बैठा कि हम उठे नाचार

ये पत्थर अब हटाए हटे है क्या कीजे

जो अज़-ख़ुद-रफ़्ता है गुमराह है वो रहनुमा मेरा

जो इक आलम से है बेगाना है वो आश्ना मेरा

ख़त का ये जवाब आया कि क़ासिद गया जी से

सर एक तरफ़ लोटे है और एक तरफ़ धड़

ब-मअ'नी कुफ़्र से इस्लाम कब ख़ाली है ज़ाहिद

निकल सुबहे से रिश्ता सूरत-ए-ज़ुन्नार हो पैदा

अरे ख़ाना-आबाद इतनी ख़ूँ-रेज़ी ये क़त्ताली

कि इक आशिक़ नहीं कूचा तिरा वीरान सूना है

गिरते हैं दुख से तेरी जुदाई के वर्ना ख़ैर

चँगे भले हैं कुछ नहीं आज़ार है हमें

काश हम नाकाम भी काम आएँ तेरे इश्क़ में

मुतलक़न नाकारा हैं दुनिया-ओ-दीं के काम से

तिरे कलाम ने कैसा असर किया वाइ'ज़

कि दिल ज़ियादा-तर आवारा हो गया वाइ'ज़

जौन से रस्ते वो हो निकले उधर पहरों तलक

हो हुजूम-ए-ख़ल्क़ से कूचा गली बाज़ार बंद

शैख़ है तुझ को ही इंकार सनम मेरे से

वर्ना हर शख़्स को इक़रार है अल्लाह अल्लाह

फूलों की सेज दोस्त की ख़ातिर 'मुहिब' बिछाओ

काँटे रखो बबूल के आ'दाओं के तले

तुम गाओ अपने राग को उस पास वाइ'ज़ो

मुश्ताक़ जो गधा हो तुम्हारे अलाप का

दिल तुझे करनी है अगर इश्क़ से बैअ'त

ज़िन्हार कभू छोड़ियो मत सिलसिला-ए-दर्द

वो जो लैला है मिरे दिल में सुने उस का जो शोर

क़ैस निकले गोर से बाहर कफ़न को चीर-फाड़

मैं हूँ और साक़ी हो और हों रास चुप ये वो बहम

जाम दस्त-ए-चुप के पास और शीशा दस्त-ए-रास पास

राग अपना गा हमारा ज़िक्र मत कर रक़ीब

जब सतावेगा हमें तब लेंगे हम इक धोल थाप

दर्स-ए-इल्म-ए-इश्क़ से वाक़िफ़ नहीं मुतलक़ फ़क़ीह

नहव ही में महव है या सर्फ़ ही में सर्फ़ है

इस्लाम में ये कैसा इंकार कुफ़्र से है

तस्बीह में पिरोए ज़ुन्नार है तअ'ज्जुब

ये दाढ़ी मोहतसिब ने दुख़्त-ए-रज़ के फाड़ खाने को

लिया है मुँह पर अपने डाल बुर्क़ा बे-हयाई का

बंदा-परवर इतना लाज़िम है क्या तकल्लुफ़

उठिए ग़रीब-ख़ाने चलिए बिला-तकल्लुफ़

तय एक रकअत की मंज़िल हुई

सफ़र शैख़-जी के वुज़ू ने किया

उस के कूचे ही में निकलूँ हूँ जाऊँ जिस तरफ़

मैं तो दीवाना हूँ अपने इस दिल-ए-गुमराह का

काबा जाने की हवस शैख़ हमें भी है वले

कूचा-ए-यार क़यामत है हवा-दार अज़ीज़

'मुहिब' तुम बुत-परस्ती को छोड़ो

तुम्हारा याँ हुवैदा होएगा रब

हो गधे पर सवार जा काबा

शैख़ ये कूच है सलामत का

ज़ाहिदा तू सोहबत-ए-रिंदाँ में आया है तो सुन

तर्क गाली का कर पगड़ी उतरने से डर

सुख़न जिन के कि सूरत जूँ गुहर है बहर-ए-मअ'नी में

अबस ग़लताँ रखे है फ़िक्र उन के आब-ओ-दाने का

चराग़-ए-का'बा-ओ-दैर एक सा है चश्म-ए-हक़-बीं में

'मुहिब' झगड़ा है कोरी के सबब शैख़ बरहमन का

काबा दैर में जब वो बुत-ए-काफ़िर मिला

ब-ख़ुदा हम ने बहुत नाला-ए-नाक़ूस किए

रात आख़िर है यहाँ आया नज़र आसार-ए-सुब्ह

शम्अ की फीकी है लौ होंटों की है लाली है उदास

दीं से पैदा कुफ़्र है और नूर शक्ल-ए-नार है

रिश्ता जब सुबहे से निकला सूरत-ए-ज़ुन्नार है

ये जूँ जूँ वा'दे के दिन रात पड़ते जाते हैं

घड़ी घड़ी में मिरा जी कटे है क्या कीजे

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए