Yagana Changezi's Photo'

यगाना चंगेज़ी

1884 - 1956 | लखनऊ, भारत

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायर जिन्होंने नई ग़ज़ल के लिए राह बनाई/मिर्ज़ा ग़ालिब के विरोध के लिए प्रसिद्ध

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायर जिन्होंने नई ग़ज़ल के लिए राह बनाई/मिर्ज़ा ग़ालिब के विरोध के लिए प्रसिद्ध

यगाना चंगेज़ी के शेर

5.6K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

गुनाह गिन के मैं क्यूँ अपने दिल को छोटा करूँ

सुना है तेरे करम का कोई हिसाब नहीं

सब्र करना सख़्त मुश्किल है तड़पना सहल है

अपने बस का काम कर लेता हूँ आसाँ देख कर

मुसीबत का पहाड़ आख़िर किसी दिन कट ही जाएगा

मुझे सर मार कर तेशे से मर जाना नहीं आता

दर्द हो तो दवा भी मुमकिन है

वहम की क्या दवा करे कोई

कशिश-ए-लखनऊ अरे तौबा

फिर वही हम वही अमीनाबाद

पहाड़ काटने वाले ज़मीं से हार गए

इसी ज़मीन में दरिया समाए हैं क्या क्या

इल्म क्या इल्म की हक़ीक़त क्या

जैसी जिस के गुमान में आई

किसी के हो रहो अच्छी नहीं ये आज़ादी

किसी की ज़ुल्फ़ से लाज़िम है सिलसिला दिल का

दीन के हुए मोहसिन हम और दुनिया के

बुतों से हम मिले और हमें ख़ुदा मिला

सब तिरे सिवा काफ़िर आख़िर इस का मतलब क्या

सर फिरा दे इंसाँ का ऐसा ख़ब्त-ए-मज़हब क्या

मौत माँगी थी ख़ुदाई तो नहीं माँगी थी

ले दुआ कर चुके अब तर्क-ए-दुआ करते हैं

ख़ुदी का नश्शा चढ़ा आप में रहा गया

ख़ुदा बने थे 'यगाना' मगर बना गया

वाइज़ की आँखें खुल गईं पीते ही साक़िया

ये जाम-ए-मय था या कोई दरिया-ए-नूर था

क्यूँ किसी से वफ़ा करे कोई

दिल माने तो क्या करे कोई

दीवाना-वार दौड़ के कोई लिपट जाए

आँखों में आँखें डाल के देखा कीजिए

बे-धड़क पिछले पहर नाला-ओ-शेवन करें

कह दे इतना तो कोई ताज़ा-गिरफ़्तारों से

वही साक़ी वही साग़र वही शीशा वही बादा

मगर लाज़िम नहीं हर एक पर यकसाँ असर होना

शर्बत का घूँट जान के पीता हूँ ख़ून-ए-दिल

ग़म खाते खाते मुँह का मज़ा तक बिगड़ गया

जैसे दोज़ख़ की हवा खा के अभी आया हो

किस क़दर वाइज़-ए-मक्कार डराता है मुझे

बुतों को देख के सब ने ख़ुदा को पहचाना

ख़ुदा के घर तो कोई बंदा-ए-ख़ुदा गया

पहुँची यहाँ भी शैख़ बरहमन की कश्मकश

अब मय-कदा भी सैर के क़ाबिल नहीं रहा

मुफ़लिसी में मिज़ाज शाहाना

किस मरज़ की दवा करे कोई

पुकारता रहा किस किस को डूबने वाला

ख़ुदा थे इतने मगर कोई आड़े गया

झाँकने ताकने का वक़्त गया

अब वो हम हैं वो ज़माना है

ख़ुदा जाने अजल को पहले किस पर रहम आएगा

गिरफ़्तार-ए-क़फ़स पर या गिरफ़्तार-ए-नशेमन पर

मुझे दिल की ख़ता पर 'यास' शर्माना नहीं आता

पराया जुर्म अपने नाम लिखवाना नहीं आता

का'बा नहीं कि सारी ख़ुदाई को दख़्ल हो

दिल में सिवाए यार किसी का गुज़र नहीं

ग़ालिब और मीरज़ा 'यगाना' का

आज क्या फ़ैसला करे कोई

पयाम-ए-ज़ेर-ए-लब ऐसा कि कुछ सुना गया

इशारा पाते ही अंगड़ाई ली रहा गया

ख़ुदा ही जाने 'यगाना' मैं कौन हूँ क्या हूँ

ख़ुद अपनी ज़ात पे शक दिल में आए हैं क्या क्या

रही है ये सदा कान में वीरानों से

कल की है बात कि आबाद थे दीवानों से

बाज़ साहिल पे ग़ोते खाने वाले बाज़

डूब मरने का मज़ा दरिया-ए-बे-साहिल में है

मुझे नाख़ुदा आख़िर किसी को मुँह दिखाना है

बहाना कर के तन्हा पार उतर जाना नहीं आता

नई ज़मीन नया आसमाँ नई दुनिया

अजीब शय ये तिलिस्म ख़याल होता है

दैर हरम भी ढह गए जब दिल नहीं रहा

सब देखते ही देखते वीराना हो गया

मरते दम तक तिरी तलवार का दम भरते रहे

हक़ अदा हो सका फिर भी वफ़ादारों से

दूर से देखने का 'यास' गुनहगार हूँ मैं

आश्ना तक हुए लब कभी पैमाने से

दुनिया के साथ दीन की बेगार अल-अमाँ

इंसान आदमी हुआ जानवर हुआ

फ़र्दा को दूर ही से हमारा सलाम है

दिल अपना शाम ही से चराग़-ए-सहर हुआ

संग-ए-मील नक़्श-ए-क़दम बाँग-ए-जरस

भटक जाएँ मुसाफ़िर अदम की मंज़िल के

हुस्न-ए-ज़ाती भी छुपाए से कहीं छुपता है

सात पर्दों से अयाँ शाहिद-ए-मअ'नी होगा

रंग बदला फिर हवा का मय-कशों के दिन फिरे

फिर चली बाद-ए-सबा फिर मय-कदे का दर खुला

दुनिया से 'यास' जाने को जी चाहता नहीं

अल्लाह रे हुस्न गुलशन-ए-ना-पाएदार का

'यास' इस चर्ख़-ए-ज़माना-साज़ का क्या ए'तिबार

मेहरबाँ है आज कल ना-मेहरबाँ हो जाएगा

यकसाँ कभी किसी की गुज़री ज़माने में

यादश-ब-ख़ैर बैठे थे कल आशियाने में

साक़ी मैं देखता हूँ ज़मीं आसमाँ का फ़र्क़

अर्श-ए-बरीं में और तिरे आस्ताने में

कारगाह-ए-दुनिया की नेस्ती भी हस्ती है

इक तरफ़ उजड़ती है एक सम्त बसती है

'यगाना' वही फ़ातेह-ए-लखनऊ हैं

दिल-ए-संग-ओ-आहन में घर करने वाले

हाथ उलझा है गरेबाँ में तो घबराओ 'यास'

बेड़ियाँ क्यूँकर कटीं ज़िंदाँ का दर क्यूँकर खुला

पर्दा-ए-हिज्र वही हस्ती-ए-मौहूम थी 'यास'

सच है पहले नहीं मालूम था ये राज़ मुझे

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए