Sandeep Gupte's Photo'

संदीप गुप्ते

1961 | भोपाल, भारत

ग़ज़ल 9

शेर 12

दुल्हन की मेहंदी जैसी है उर्दू ज़बाँ की शक्ल

ख़ुशबू बिखेरता है इबारत का हर्फ़ हर्फ़

  • शेयर कीजिए

मैं तुम्हारे शहर की तहज़ीब से वाक़िफ़ था

पत्थरों से की नहीं थी गुफ़्तुगू पहले कभी

  • शेयर कीजिए

हमें क़ुबूल नहीं छोटा मुँह बड़ी बातें

मिसाल बनते हैं और फिर मिसाल देते हैं

  • शेयर कीजिए

ग़ज़ल में जब तलक एहसास की शिद्दत हो शामिल

फ़क़त अल्फ़ाज़ की कारीगरी महसूस होती है

  • शेयर कीजिए

मोहब्बत तो किसी से कर पाए

किसी से तुम शिकायत क्या करोगे

  • शेयर कीजिए

"भोपाल" के और शायर

  • बशीर बद्र बशीर बद्र
  • कैफ़ भोपाली कैफ़ भोपाली
  • नुसरत मेहदी नुसरत मेहदी
  • अख़्तर सईद ख़ान अख़्तर सईद ख़ान
  • मुनीर भोपाली मुनीर भोपाली
  • परवीन कैफ़ परवीन कैफ़
  • ज़िया फ़ारूक़ी ज़िया फ़ारूक़ी
  • अहमद कमाल परवाज़ी अहमद कमाल परवाज़ी
  • बख़्तियार ज़िया बख़्तियार ज़िया
  • अबु मोहम्मद सहर अबु मोहम्मद सहर