अफ़ज़ल ख़ान

ग़ज़ल 13

शेर 35

तू भी सादा है कभी चाल बदलता ही नहीं

हम भी सादा हैं इसी चाल में जाते हैं

  • शेयर कीजिए

बिछड़ने का इरादा है तो मुझ से मशवरा कर लो

मोहब्बत में कोई भी फ़ैसला ज़ाती नहीं होता

  • शेयर कीजिए

शिकस्त-ए-ज़िंदगी वैसे भी मौत ही है ना

तू सच बता ये मुलाक़ात आख़री है ना

  • शेयर कीजिए

अब जो पत्थर है आदमी था कभी

इस को कहते हैं इंतिज़ार मियाँ

  • शेयर कीजिए

लोगों ने आराम किया और छुट्टी पूरी की

यकुम मई को भी मज़दूरों ने मज़दूरी की

  • शेयर कीजिए

चित्र शायरी 2

 

संबंधित शायर

"बहावलपुर" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI