Ahmad Hamdani's Photo'

अहमद हमदानी

1927 - 2015 | कराची, पाकिस्तान

शायर व आलोचक, इकबाल के चिन्तन और उनके फ़न पर अपनी आलोचनात्मक किताब के लिए प्रसिद्ध

शायर व आलोचक, इकबाल के चिन्तन और उनके फ़न पर अपनी आलोचनात्मक किताब के लिए प्रसिद्ध

ग़ज़ल 16

शेर 4

वो मेरी राह में काँटे बिछाए मैं लेकिन

उसी को प्यार करूँ उस पे ए'तिबार करूँ

क्यूँ हमारे साँस भी होते हैं लोगों पर गिराँ

हम भी तो इक उम्र ले कर इस जहाँ में आए थे

तू मयस्सर था तो दिल में थे हज़ारों अरमाँ

तू नहीं है तो हर इक सम्त अजब रंग-ए-मलाल

अजीब वहशतें हिस्से में अपने आई हैं

कि तेरे घर भी पहुँच कर सकूँ पाएँ हम

पुस्तकें 2

इक़बाल फ़िक्र-ओ-फ़न के अाईने में

 

1995

सिलसिला सवालों का

 

1986

 

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
चाँद ओझल हो गया हर इक सितारा बुझ गया

अहमद हमदानी

मुँह अँधेरे घर से निकले फिर थे हंगामे बहुत

अहमद हमदानी

ये वफ़ाएँ सारी धोके फिर ये धोके भी कहाँ

अहमद हमदानी

संबंधित शायर

  • अनवर ख़लील अनवर ख़लील समकालीन

"कराची" के और शायर

  • जौन एलिया जौन एलिया
  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी
  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • मोहसिन एहसान मोहसिन एहसान
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास