Akbar Hameedi's Photo'

अकबर हमीदी

1935 | इस्लामाबाद, पाकिस्तान

ग़ज़ल 20

शेर 18

हू-ब-हू आप ही की मूरत है

ज़िंदगी कितनी ख़ूब-सूरत है

कोई नादीदा उँगली उठ रही है

मिरी जानिब इशारा हो रहा है

जल कर गिरा हूँ सूखे शजर से उड़ा नहीं

मैं ने वही किया जो तक़ाज़ा वफ़ा का था

ई-पुस्तक 3

Har Ek Taraf Se

 

2001

पहाड़ मु़झे बुलाता है

 

2003

Shor-e-Badban

 

 

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • एजाज़ गुल एजाज़ गुल
  • साबिर वसीम साबिर वसीम
  • मोहम्मद हनीफ़ रामे मोहम्मद हनीफ़ रामे
  • अनवार फ़ितरत अनवार फ़ितरत
  • मुमताज़ गुर्मानी मुमताज़ गुर्मानी
  • अब्बास रिज़वी अब्बास रिज़वी
  • अब्बास दाना अब्बास दाना
  • सरफ़राज़ शाहिद सरफ़राज़ शाहिद
  • अदीब सहारनपुरी अदीब सहारनपुरी
  • अशफ़ाक़ आमिर अशफ़ाक़ आमिर