ग़ज़ल 19

शेर 4

साल गुज़र जाता है सारा

और कैलन्डर रह जाता है

इक अदावत से फ़राग़त नहीं मिलती वर्ना

कौन कहता है मोहब्बत नहीं कर सकते हम

नमी जगह बना रही है आँख में

ये तीर अब कमान से निकालिए

ई-पुस्तक 1

Lafzon Se Pahle

 

2014

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • शाहीन अब्बास शाहीन अब्बास
  • रशीद क़ैसरानी रशीद क़ैसरानी
  • सलीम बेताब सलीम बेताब
  • नासिर ज़ैदी नासिर ज़ैदी
  • नूर बिजनौरी नूर बिजनौरी
  • मंज़ूर आरिफ़ मंज़ूर आरिफ़
  • हम्माद नियाज़ी हम्माद नियाज़ी
  • जमील यूसुफ़ जमील यूसुफ़
  • तौसीफ़ तबस्सुम तौसीफ़ तबस्सुम
  • हमीदा शाहीन हमीदा शाहीन