ग़ज़ल 20

शेर 18

अजीब दर्द का रिश्ता था सब के सब रोए

शजर गिरा तो परिंदे तमाम शब रोए

अब आसमान भी कम पड़ रहे हैं उस के लिए

क़दम ज़मीन पर रक्खा था जिस ने डरते हुए

अभी फिर रहा हूँ मैं आप-अपनी तलाश में

अभी मुझ से मेरा मिज़ाज ही नहीं मिल रहा

ई-पुस्तक 1

दिये में जल्ती रात

 

2003

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • एजाज़ गुल एजाज़ गुल
  • सरफ़राज़ शाहिद सरफ़राज़ शाहिद
  • समीना राजा समीना राजा
  • मंज़र नक़वी मंज़र नक़वी
  • रहमान हफ़ीज़ रहमान हफ़ीज़
  • ऐतबार साजिद ऐतबार साजिद
  • अख़्तर रज़ा सलीमी अख़्तर रज़ा सलीमी
  • किश्वर नाहीद किश्वर नाहीद
  • अकबर हमीदी अकबर हमीदी
  • सय्यद ज़मीर जाफ़री सय्यद ज़मीर जाफ़री

Added to your favorites

Removed from your favorites