Akbar Masoom's Photo'

अकबर मासूम

1960 - 2019 | कराची, पाकिस्तान

ग़ज़ल 13

शेर 10

अब तुझे मेरा नाम याद नहीं

जब कि तेरा पता रहा हूँ मैं

वो और होंगे जो कार-ए-हवस पे ज़िंदा हैं

मैं उस की धूप से साया बदल के आया हूँ

है मुसीबत में गिरफ़्तार मुसीबत मेरी

जो भी मुश्किल है वो मेरे लिए आसानी है

अब तेरा खेल खेल रहा हूँ मैं अपने साथ

ख़ुद को पुकारता हूँ और आता नहीं हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

ऐसा एक मक़ाम हो जिस में दिल जैसी वीरानी हो

यादों जैसी तेज़ हवा हो दर्द से गहरा पानी हो

पुस्तकें 1

Be Sakhta

 

2018

 

"कराची" के और शायर

  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • सज्जाद बाक़र रिज़वी सज्जाद बाक़र रिज़वी
  • महशर बदायुनी महशर बदायुनी
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • उबैदुल्लाह अलीम उबैदुल्लाह अलीम
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • जमाल एहसानी जमाल एहसानी
  • अज़ीज़ हामिद मदनी अज़ीज़ हामिद मदनी