Amjad hyderabadi's Photo'

अमजद हैदराबादी

1878 - 1961 | हैदराबाद, भारत

प्रतिष्ठित शायर, अपनी रुबाई के लिए मशहूर

प्रतिष्ठित शायर, अपनी रुबाई के लिए मशहूर

ग़ज़ल 1

 

शेर 3

झोलियाँ सब की भरती जाती हैं

देने वाला नज़र नहीं आता

ढूँडती हैं जिसे मिरी आँखें

वो तमाशा नज़र नहीं आता

बर्बाद कर बेकस का चमन बेदर्द ख़िज़ाँ से कौन कहे

ताराज कर मेरा ख़िर्मन उस बर्क़-ए-तपाँ से कौन कहे

  • शेयर कीजिए
 

रुबाई 16

पुस्तकें 5

Rubaiyat-e-Amjad

Part-002

 

Rubaiyat-e-Amjad

Part-003

1955

Rubaiyat-e-Amjad

Part-001

1953

रुबाइयात-ए-अमजद

भाग-001

 

Yadgar-e-Amjad

 

1961

 

"हैदराबाद" के और शायर

  • जलील मानिकपूरी जलील मानिकपूरी
  • वली उज़लत वली उज़लत
  • अमीर मीनाई अमीर मीनाई
  • रऊफ़ रहीम रऊफ़ रहीम
  • मुसहफ़ इक़बाल तौसिफ़ी मुसहफ़ इक़बाल तौसिफ़ी
  • शफ़ीक़ फातिमा शेरा शफ़ीक़ फातिमा शेरा
  • ख़ुर्शीद अहमद जामी ख़ुर्शीद अहमद जामी
  • राशिद आज़र राशिद आज़र
  • रऊफ़ ख़ैर रऊफ़ ख़ैर
  • रियासत अली ताज रियासत अली ताज