noImage

आरज़ू सहारनपुरी

1899 | कोलकाता, भारत

ग़ज़ल 3

 

शेर 4

भूल के कभी फ़ाश कर राज़-ओ-नियाज़-ए-आशिक़ी

वो भी अगर हों सामने आँख उठा के भी देख

  • शेयर कीजिए

कभी कभी तो इक ऐसा मक़ाम आया है

मैं हुस्न बन के ख़ुद अपनी नज़र से गुज़रा हूँ

  • शेयर कीजिए

महसूस कर रहा हूँ ख़ुद अपने जमाल को

जितना तिरे क़रीब चला जा रहा हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 3

Ilham-e-Sehar

 

 

Ilham-e-Sehar

 

1966

Nay-o-Naghma

 

1968

 

संबंधित शायर

  • जोश मलीहाबादी जोश मलीहाबादी समकालीन
  • फ़ानी बदायुनी फ़ानी बदायुनी गुरु

"कोलकाता" के और शायर

  • शगुफ़्ता यासमीन शगुफ़्ता यासमीन
  • शहनाज़ नबी शहनाज़ नबी
  • सय्यद मोहम्मद मस्त कलकत्तवी सय्यद मोहम्मद मस्त कलकत्तवी
  • मुन्नी बाई हिजाब मुन्नी बाई हिजाब
  • ग़व्वास क़ुरैशी ग़व्वास क़ुरैशी
  • अमीर रज़ा मज़हरी अमीर रज़ा मज़हरी
  • सादिक़-उल-क़ादरी सादिक़-उल-क़ादरी
  • नाज़िम सुल्तानपूरी नाज़िम सुल्तानपूरी
  • शहूद आलम आफ़ाक़ी शहूद आलम आफ़ाक़ी
  • जाफ़र साहनी जाफ़र साहनी