Ashok Sawhny's Photo'

अशोक साहनी

1938 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 8

शेर 2

ज़माने ने लगाईं मुझ पे लाखों बंदिशें लेकिन

सर-ए-महफ़िल मिरी नज़रों ने तुम से गुफ़्तुगू कर ली

  • शेयर कीजिए

तिरी सूरत से हसीं और भी मिल जाएँगे

जिस में सीरत भी तिरी हो वो कहाँ से लाऊँ

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

Khusboo-e-Chaman

 

2006

 

"दिल्ली" के और शायर

  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • हीरा लाल फ़लक देहलवी हीरा लाल फ़लक देहलवी
  • मुर्ली धर शाद मुर्ली धर शाद
  • शकील शम्सी शकील शम्सी
  • नूरुल ऐन क़ैसर क़ासमी नूरुल ऐन क़ैसर क़ासमी
  • ममनून निज़ामुद्दीन ममनून निज़ामुद्दीन
  • चंद्रभान कैफ़ी देहल्वी चंद्रभान कैफ़ी देहल्वी
  • प्यारे लाल रौनक़ देहलवी प्यारे लाल रौनक़ देहलवी
  • आबिद करहानी आबिद करहानी