noImage

अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ

1725/6 - 1772 | दिल्ली, भारत

18 वीं सदी के प्रमुख शायरों में शामिल / मीर तक़ी मीर के समकालीन

18 वीं सदी के प्रमुख शायरों में शामिल / मीर तक़ी मीर के समकालीन

ग़ज़ल 15

शेर 6

कब दर्द से दिल को ताब आया

आँखों में कहाँ से ख़्वाब आया

  • शेयर कीजिए

मुझ से जो पूछते हो तो हर हाल शुक्र है

यूँ भी गुज़र गई मिरी वूँ भी गुज़र गई

  • शेयर कीजिए

जुगनू मियाँ की दुम जो चमकती है रात को

सब देख देख उस को बजाते हैं तालियाँ

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 2

Deewan-e-Ashraf Ali Khan Fughan

 

2003

Deewan-e-Fughan

 

1950

 

ऑडियो 11

अक्स भी कब शब-ए-हिज्राँ का तमाशाई है

अगर आशिक़ कोई पैदा न होता

आलम में अगर इश्क़ का बाज़ार न होता

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • इश्क़ औरंगाबादी इश्क़ औरंगाबादी
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • हसरत अज़ीमाबादी हसरत अज़ीमाबादी
  • इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन
  • मीर सोज़ मीर सोज़
  • क़ुर्बी वेलोरी क़ुर्बी वेलोरी