Firaq Gorakhpuri's Photo'

फ़िराक़ गोरखपुरी

1896 - 1982 | इलाहाबाद, भारत

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायरों में विख्यात, जिन्होंने आधुनिक उर्दू गज़ल के लिए राह बनाई/अपने गहरे आलोचनात्मक विचारों के लिए विख्यात/भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायरों में विख्यात, जिन्होंने आधुनिक उर्दू गज़ल के लिए राह बनाई/अपने गहरे आलोचनात्मक विचारों के लिए विख्यात/भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित

80.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैं

तुझे ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं

एक मुद्दत से तिरी याद भी आई हमें

और हम भूल गए हों तुझे ऐसा भी नहीं

मौत का भी इलाज हो शायद

ज़िंदगी का कोई इलाज नहीं

कोई समझे तो एक बात कहूँ

इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं

तुम मुख़ातिब भी हो क़रीब भी हो

तुम को देखें कि तुम से बात करें

हम से क्या हो सका मोहब्बत में

ख़ैर तुम ने तो बेवफ़ाई की

कोई वा'दा कोई यक़ीं कोई उमीद

मगर हमें तो तिरा इंतिज़ार करना था

ग़रज़ कि काट दिए ज़िंदगी के दिन दोस्त

वो तेरी याद में हों या तुझे भुलाने में

मैं हूँ दिल है तन्हाई है

तुम भी होते अच्छा होता

शाम भी थी धुआँ धुआँ हुस्न भी था उदास उदास

दिल को कई कहानियाँ याद सी के रह गईं

तेरे आने की क्या उमीद मगर

कैसे कह दूँ कि इंतिज़ार नहीं

आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में 'फ़िराक़'

जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए

कम से कम मौत से ऐसी मुझे उम्मीद नहीं

ज़िंदगी तू ने तो धोके पे दिया है धोका

अब तो उन की याद भी आती नहीं

कितनी तन्हा हो गईं तन्हाइयाँ

बहुत दिनों में मोहब्बत को ये हुआ मा'लूम

जो तेरे हिज्र में गुज़री वो रात रात हुई

ज़िंदगी क्या है आज इसे दोस्त

सोच लें और उदास हो जाएँ

जो उन मासूम आँखों ने दिए थे

वो धोके आज तक मैं खा रहा हूँ

ये माना ज़िंदगी है चार दिन की

बहुत होते हैं यारो चार दिन भी

कुछ पूछो 'फ़िराक़' अहद-ए-शबाब

रात है नींद है कहानी है

ज़रा विसाल के बाद आइना तो देख दोस्त

तिरे जमाल की दोशीज़गी निखर आई

किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फिर भी

ये हुस्न इश्क़ तो धोका है सब मगर फिर भी

रात भी नींद भी कहानी भी

हाए क्या चीज़ है जवानी भी

देख रफ़्तार-ए-इंक़लाब 'फ़िराक़'

कितनी आहिस्ता और कितनी तेज़

इक उम्र कट गई है तिरे इंतिज़ार में

ऐसे भी हैं कि कट सकी जिन से एक रात

साँस लेती है वो ज़मीन 'फ़िराक़'

जिस पे वो नाज़ से गुज़रते हैं

मैं मुद्दतों जिया हूँ किसी दोस्त के बग़ैर

अब तुम भी साथ छोड़ने को कह रहे हो ख़ैर

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है

उछल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी

खो दिया तुम को तो हम पूछते फिरते हैं यही

जिस की तक़दीर बिगड़ जाए वो करता क्या है

तुझ को पा कर भी कम हो सकी बे-ताबी-ए-दिल

इतना आसान तिरे इश्क़ का ग़म था ही नहीं

कोई आया आएगा लेकिन

क्या करें गर इंतिज़ार करें

अब याद-ए-रफ़्तगाँ की भी हिम्मत नहीं रही

यारों ने कितनी दूर बसाई हैं बस्तियाँ

तबीअत अपनी घबराती है जब सुनसान रातों में

हम ऐसे में तिरी यादों की चादर तान लेते हैं

मैं देर तक तुझे ख़ुद ही रोकता लेकिन

तू जिस अदा से उठा है उसी का रोना है

सर-ज़मीन-ए-हिंद पर अक़्वाम-ए-आलम के 'फ़िराक़'

क़ाफ़िले बसते गए हिन्दोस्ताँ बनता गया

रोने को तो ज़िंदगी पड़ी है

कुछ तेरे सितम पे मुस्कुरा लें

जिस में हो याद भी तिरी शामिल

हाए उस बे-ख़ुदी को क्या कहिए

आने वाली नस्लें तुम पर फ़ख़्र करेंगी हम-असरो

जब भी उन को ध्यान आएगा तुम ने 'फ़िराक़' को देखा है

पर्दा-ए-लुत्फ़ में ये ज़ुल्म-ओ-सितम क्या कहिए

हाए ज़ालिम तिरा अंदाज़-ए-करम क्या कहिए

आज बहुत उदास हूँ

यूँ कोई ख़ास ग़म नहीं

देवताओं का ख़ुदा से होगा काम

आदमी को आदमी दरकार है

कौन ये ले रहा है अंगड़ाई

आसमानों को नींद आती है

कह दिया तू ने जो मा'सूम तो हम हैं मा'सूम

कह दिया तू ने गुनहगार गुनहगार हैं हम

सुनते हैं इश्क़ नाम के गुज़रे हैं इक बुज़ुर्ग

हम लोग भी फ़क़ीर इसी सिलसिले के हैं

आँखों में जो बात हो गई है

इक शरह-ए-हयात हो गई है

शामें किसी को माँगती हैं आज भी 'फ़िराक़'

गो ज़िंदगी में यूँ मुझे कोई कमी नहीं

शक्ल इंसान की हो चाल भी इंसान की हो

यूँ भी आती है क़यामत मुझे मा'लूम था

असर भी ले रहा हूँ तेरी चुप का

तुझे क़ाइल भी करता जा रहा हूँ

तुम इसे शिकवा समझ कर किस लिए शरमा गए

मुद्दतों के बा'द देखा था तो आँसू गए

सर में सौदा भी नहीं दिल में तमन्ना भी नहीं

लेकिन इस तर्क-ए-मोहब्बत का भरोसा भी नहीं

अक़्ल में यूँ तो नहीं कोई कमी

इक ज़रा दीवानगी दरकार है