Gulnar Aafreen's Photo'

गुलनार आफ़रीन

1942 | कराची, पाकिस्तान

गुलनार आफ़रीन

ग़ज़ल 13

नज़्म 3

 

अशआर 15

सफ़र का रंग हसीं क़ुर्बतों का हामिल हो

बहार बन के कोई अब तो हम-सफ़र आए

दिल का हर ज़ख़्म तिरी याद का इक फूल बने

मेरे पैराहन-ए-जाँ से तिरी ख़ुशबू आए

किन शहीदों के लहू के ये फ़रोज़ाँ हैं चराग़

रौशनी सी जो है ज़िंदाँ के हर इक रौज़न में

एक आँसू याद का टपका तो दरिया बन गया

ज़िंदगी भर मुझ में एक तूफ़ान सा पलता रहा

'गुलनार' मस्लहत की ज़बाँ में बात कर

वो ज़हर पी के देख जो सच्चाइयों में है

पुस्तकें 5

 

वीडियो 5

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Jeene ka maza gardishe aiyam na aya

Gulnar Aafreen is a Pakistani Urdu Language Poet. She writes Ghazal and Nazm. Naina reciting her Ghazal & Nazm for Rekhta.org. गुलनार आफ़रीन

Rooh e Mustari

Gulnar Aafreen is a Pakistani Urdu Language Poet. She writes Ghazal and Nazm. Naina reciting her Ghazal & Nazm for Rekhta.org. गुलनार आफ़रीन

Tashdid e Wafa

Gulnar Aafreen is a Pakistani Urdu Language Poet. She writes Ghazal and Nazm. Naina reciting her Ghazal & Nazm for Rekhta.org. गुलनार आफ़रीन

Ye aur baat hai tumhe pakar gawa dya

Gulnar Aafreen is a Pakistani Urdu Language Poet. She writes Ghazal and Nazm. Naina reciting her Ghazal & Nazm for Rekhta.org. गुलनार आफ़रीन

Ye shehr e wafa aur bhi veeran to hota

Gulnar Aafreen is a Pakistani Urdu Language Poet. She writes Ghazal and Nazm. Naina reciting her Ghazal & Nazm for Rekhta.org. गुलनार आफ़रीन

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए