Hanson Rehani's Photo'

हेंसन रेहानी

1912 - 1976 | इलाहाबाद, भारत

हेंसन रेहानी

ग़ज़ल 3

 

शेर 3

तोड़ कर निकले क़फ़स तो गुम थी राह-ए-आशियाँ

वो अमल तदबीर का था ये अमल तक़दीर का

ग़म की तकमील का सामान हुआ है पैदा

लाइक़-ए-फ़ख़्र मिरी बे-सर-ओ-सामानी है

हर ज़र्रा है जमाल की दुनिया लिए हुए

इंसाँ अगर हो दीदा-ए-बीना लिए हुए

 

पुस्तकें 1

Paigham-e-Hayat

 

1973

 

"इलाहाबाद" के और शायर

  • आनंद नारायण मुल्ला आनंद नारायण मुल्ला
  • ख़्वाजा जावेद अख़्तर ख़्वाजा जावेद अख़्तर
  • अफ़ज़ल इलाहाबादी अफ़ज़ल इलाहाबादी
  • ज़फ़र अंसारी ज़फ़र ज़फ़र अंसारी ज़फ़र
  • अब्दुल हमीद अब्दुल हमीद
  • साहिल अहमद साहिल अहमद
  • सुहैल अहमद ज़ैदी सुहैल अहमद ज़ैदी
  • एहतराम इस्लाम एहतराम इस्लाम
  • अकबर इलाहाबादी अकबर इलाहाबादी
  • तौक़ीर ज़ैदी तौक़ीर ज़ैदी