ग़ज़ल 8

शेर 2

रफ़्ता रफ़्ता ज़ेहन के सब क़ुमक़ुमे बुझ जाएँगे

और इक अंधे नगर का रास्ता रह जाएगा

कितने बन-बास लिए फिर भी तिरे साथ रहे

हम ने सोचा ही नहीं तुझ से जुदा हो जाना

 

पुस्तकें 1

Subh Aane Ko Hai

 

2000

 

"कराची" के और शायर

  • ज़ीशान साहिल ज़ीशान साहिल
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • सज्जाद बाक़र रिज़वी सज्जाद बाक़र रिज़वी
  • महशर बदायुनी महशर बदायुनी
  • पीरज़ादा क़ासीम पीरज़ादा क़ासीम
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • जमाल एहसानी जमाल एहसानी
  • अदा जाफ़री अदा जाफ़री
  • रज़ी अख़्तर शौक़ रज़ी अख़्तर शौक़