2.7K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हम से कोई तअल्लुक़-ए-ख़ातिर तो है उसे

वो यार बा-वफ़ा सही बेवफ़ा तो है

हम तो तमाम उम्र तिरी ही अदा रहे

ये क्या हुआ कि फिर भी हमीं बेवफ़ा रहे

दिल की क़ीमत तो मोहब्बत के सिवा कुछ भी थी

जो मिले सूरत-ए-ज़ेबा के ख़रीदार मिले

ख़त्म हो जाएँ जिन्हें देख के बीमारी-ए-दिल

ढूँड कर लाएँ कहाँ से वो मसीहा चेहरे

मैं तो तन्हा था मगर तुझ को भी तन्हा देखा

अपनी तस्वीर के पीछे तिरा चेहरा देखा

कैसे थे लोग जिन की ज़बानों में नूर था

अब तो तमाम झूट है सच्चाइयों में भी

एक ज़रा सी भूल पे हम को इतना तू बदनाम कर

हम ने अपने घाव छुपा कर तेरे काज सँवारे हैं

यूँ दिल में आज नूर की बारिश हुई 'जमील'

जैसे कोई चराग़ जला दे बुझा हुआ

ये क्या ज़रूर है मैं कहूँ और तू सुने

जो मेरा हाल है वो तुझे भी पता तो है

कितने हाथों ने तराशे ये हसीं ताज-महल

झाँकते हैं दर-ओ-दीवार से क्या क्या चेहरे

बाग़ में जा कर देख लिया

कोई नहीं था तुझ सा फूल

पेड़ का दुख तो कोई पूछने वाला ही था

अपनी ही आग में जलता हुआ साया देखा

सब को फूल और कलियाँ बाँटो हम को दो सूखे पत्ते

ये कैसे तोहफ़े लाए हो ये क्या बर्ग-फ़रोशी है

उस की ख़मोशियों में निहाँ कितना शोर था

मुझ से सिवा वो दर्द का ख़ूगर लगा मुझे

ये मंज़र ये रूप अनोखे सब शहकार हमारे हैं

हम ने अपने ख़ून-ए-जिगर से क्या क्या नक़्श उभारे हैं

जाँ नज़्र की तो दोनों जहाँ मिल गए हमें

तय मर्ग ज़िंदगी का हर इक मरहला हुआ