Kaleem Aajiz's Photo'

कलीम आजिज़

1924 - 2015 | पटना, भारत

क्लासिकी लहजे के प्रमुख और लोकप्रिय शायर

क्लासिकी लहजे के प्रमुख और लोकप्रिय शायर

9.2K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

दर्द ऐसा है कि जी चाहे है ज़िंदा रहिए

ज़िंदगी ऐसी कि मर जाने को जी चाहे है

जाने रूठ के बैठा है दिल का चैन कहाँ

मिले तो उस को हमारा कोई सलाम कहे

दामन पे कोई छींट ख़ंजर पे कोई दाग़

तुम क़त्ल करो हो कि करामात करो हो

रखना है कहीं पाँव तो रक्खो हो कहीं पाँव

चलना ज़रा आया है तो इतराए चलो हो

करे है अदावत भी वो इस अदा से

लगे है कि जैसे मोहब्बत करे है

ज़ालिम था वो और ज़ुल्म की आदत भी बहुत थी

मजबूर थे हम उस से मोहब्बत भी बहुत थी

गुज़र जाएँगे जब दिन गुज़रे आलम याद आएँगे

हमें तुम याद आओगे तुम्हें हम याद आएँगे

ये आँसू बे-सबब जारी नहीं है

मुझे रोने की बीमारी नहीं है

तुम्हें याद ही आऊँ ये है और बात वर्ना

मैं नहीं हूँ दूर इतना कि सलाम तक पहुँचे

बहारों की नज़र में फूल और काँटे बराबर हैं

मोहब्बत क्या करेंगे दोस्त दुश्मन देखने वाले

ग़म है तो कोई लुत्फ़ नहीं बिस्तर-ए-गुल पर

जी ख़ुश है तो काँटों पे भी आराम बहुत है

क्या सितम है कि वो ज़ालिम भी है महबूब भी है

याद करते बने और भुलाए बने

भला आदमी था नादान निकला

सुना है किसी से मोहब्बत करे है

बात चाहे बे-सलीक़ा हो 'कलीम'

बात कहने का सलीक़ा चाहिए

वो कहते हैं हर चोट पर मुस्कुराओ

वफ़ा याद रक्खो सितम भूल जाओ

सुनेगा कौन मेरी चाक-दामानी का अफ़्साना

यहाँ सब अपने अपने पैरहन की बात करते हैं

दिन एक सितम एक सितम रात करो हो

वो दोस्त हो दुश्मन को भी तुम मात करो हो

अपना लहू भर कर लोगों को बाँट गए पैमाने लोग

दुनिया भर को याद रहेंगे हम जैसे दीवाने लोग

उठते होऊँ को सब ने सहारा दिया 'कलीम'

गिरते हुए ग़रीब सँभाले कहाँ गए

वो बात ज़रा सी जिसे कहते हैं ग़म-ए-दिल

समझाने में इक उम्र गुज़र जाए है प्यारे

इश्क़ में मौत का नाम है ज़िंदगी

जिस को जीना हो मरना गवारा करे

तल्ख़ियाँ इस में बहुत कुछ हैं मज़ा कुछ भी नहीं

ज़िंदगी दर्द-ए-मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

उन्हीं के गीत ज़माने में गाए जाएँगे

जो चोट खाएँगे और मुस्कुराए जाएँगे

ख़मोशी में हर बात बन जाए है

जो बोले है दीवाना कहलाए है

मिरी शाएरी में रक़्स-ए-जाम मय की रंग-फ़िशानियाँ

वही दुख-भरों की हिकायतें वही दिल-जलों की कहानियाँ

दिल थाम के करवट पे लिए जाऊँ हूँ करवट

वो आग लगी है कि बुझाए बने है

कुछ रोज़ से हम शहर में रुस्वा हुए हैं

फिर कोई इल्ज़ाम लगाने के लिए

मरना तो बहुत सहल सी इक बात लगे है

जीना ही मोहब्बत में करामात लगे है

आज़माना है तो बाज़ू दिल की क़ुव्वत

तू भी शमशीर उठा हम भी ग़ज़ल कहते हैं

मय-कदे की तरफ़ चला ज़ाहिद

सुब्ह का भूला शाम घर आया

the priest now proceeds towards the tavern's door

to the true path returns he who strayed before

हमारे क़त्ल से क़ातिल को तजरबा ये हुआ

लहू लहू भी है मेहंदी भी है शराब भी है

सुना है हमें बेवफ़ा तुम कहो हो

ज़रा हम से आँखें मिला लो तो जानें

दिल दर्द की भट्टी में कई बार जले है

तब एक ग़ज़ल हुस्न के साँचे में ढले है

मैं मोहब्बत छुपाऊँ तू अदावत छुपा

यही राज़ में अब है वही राज़ में है

मिरा हाल पूछ के हम-नशीं मिरे सोज़-ए-दिल को हवा दे

बस यही दुआ मैं करूँ हूँ अब कि ये ग़म किसी को ख़ुदा दे

अब इंसानों की बस्ती का ये आलम है कि मत पूछो

लगे है आग इक घर में तो हम-साया हवा दे है

वो सितम ढाए तो क्या करे उसे क्या ख़बर कि वफ़ा है क्या?

तू उसी को प्यार करे है क्यूँ ये 'कलीम' तुझ को हुआ है क्या?

मय में कोई ख़ामी है साग़र में कोई खोट

पीना नहीं आए है तो छलकाए चलो हो

फ़न में मोजज़ा करामात चाहिए

दिल को लगे बस ऐसी कोई बात चाहिए

हाँ कुछ भी तो देरीना मोहब्बत का भरम रख

दिल से दुनिया को दिखाने के लिए

कभी ऐसा भी होवे है रोते रोते

जिगर थाम कर मुस्कुराना पड़े है

तुझे संग-दिल ये पता है क्या कि दुखे दिलों की सदा है क्या?

कभी चोट तू ने भी खाई है कभी तेरा दिल भी दुखा है क्या?

बहुत दुश्वार समझाना है ग़म का

समझ लेने में दुश्वारी नहीं है

ये तर्ज़-ए-ख़ास है कोई कहाँ से लाएगा

जो हम कहेंगे किसी से कहा जाएगा

कल कहते रहे हैं वही कल कहते रहेंगे

हर दौर में हम उन पे ग़ज़ल कहते रहेंगे

इक घर भी सलामत नहीं अब शहर-ए-वफ़ा में

तू आग लगाने को किधर जाए है प्यारे

तपिश पतिंगों को बख़्श देंगे लहू चराग़ों में ढाल देंगे

हम उन की महफ़िल में रह गए हैं तो उन की महफ़िल सँभाल देंगे

अपना दिल सीना-ए-अशआर में रख देते हैं

कुछ हक़ीक़त भी ज़रूरी है फ़साने के लिए

मौसम-ए-गुल हमें जब याद आया

जितना ग़म भूले थे सब याद आया

इधर हम दिखाते हैं ग़ज़ल का आइना तुझ को

ये किस ने कह दिया गेसू तिरे बरहम नहीं प्यारे