Kaleem Aajiz's Photo'

कलीम आजिज़

1924 - 2015 | पटना, भारत

क्लासिकी लहजे के प्रमुख और लोकप्रिय शायर

क्लासिकी लहजे के प्रमुख और लोकप्रिय शायर

6.76K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

दर्द ऐसा है कि जी चाहे है ज़िंदा रहिए

ज़िंदगी ऐसी कि मर जाने को जी चाहे है

जाने रूठ के बैठा है दिल का चैन कहाँ

मिले तो उस को हमारा कोई सलाम कहे

दामन पे कोई छींट ख़ंजर पे कोई दाग़

तुम क़त्ल करो हो कि करामात करो हो

रखना है कहीं पाँव तो रक्खो हो कहीं पाँव

चलना ज़रा आया है तो इतराए चलो हो

करे है अदावत भी वो इस अदा से

लगे है कि जैसे मोहब्बत करे है

ज़ालिम था वो और ज़ुल्म की आदत भी बहुत थी

मजबूर थे हम उस से मोहब्बत भी बहुत थी

गुज़र जाएँगे जब दिन गुज़रे आलम याद आएँगे

हमें तुम याद आओगे तुम्हें हम याद आएँगे

ये आँसू बे-सबब जारी नहीं है

मुझे रोने की बीमारी नहीं है

बहारों की नज़र में फूल और काँटे बराबर हैं

मोहब्बत क्या करेंगे दोस्त दुश्मन देखने वाले

तुम्हें याद ही आऊँ ये है और बात वर्ना

मैं नहीं हूँ दूर इतना कि सलाम तक पहुँचे

भला आदमी था नादान निकला

सुना है किसी से मोहब्बत करे है

ग़म है तो कोई लुत्फ़ नहीं बिस्तर-ए-गुल पर

जी ख़ुश है तो काँटों पे भी आराम बहुत है

क्या सितम है कि वो ज़ालिम भी है महबूब भी है

याद करते बने और भुलाए बने

बात चाहे बे-सलीक़ा हो 'कलीम'

बात कहने का सलीक़ा चाहिए

सुनेगा कौन मेरी चाक-दामानी का अफ़्साना

यहाँ सब अपने अपने पैरहन की बात करते हैं

वो कहते हैं हर चोट पर मुस्कुराओ

वफ़ा याद रक्खो सितम भूल जाओ

दिन एक सितम एक सितम रात करो हो

वो दोस्त हो दुश्मन को भी तुम मात करो हो

अपना लहू भर कर लोगों को बाँट गए पैमाने लोग

दुनिया भर को याद रहेंगे हम जैसे दीवाने लोग

उठते होऊँ को सब ने सहारा दिया 'कलीम'

गिरते हुए ग़रीब सँभाले कहाँ गए

वो बात ज़रा सी जिसे कहते हैं ग़म-ए-दिल

समझाने में इक उम्र गुज़र जाए है प्यारे

तल्ख़ियाँ इस में बहुत कुछ हैं मज़ा कुछ भी नहीं

ज़िंदगी दर्द-ए-मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

इश्क़ में मौत का नाम है ज़िंदगी

जिस को जीना हो मरना गवारा करे

दिल थाम के करवट पे लिए जाऊँ हूँ करवट

वो आग लगी है कि बुझाए बने है

ख़मोशी में हर बात बन जाए है

जो बोले है दीवाना कहलाए है

मिरी शाएरी में रक़्स-ए-जाम मय की रंग-फ़िशानियाँ

वही दुख-भरों की हिकायतें वही दिल-जलों की कहानियाँ

उन्हीं के गीत ज़माने में गाए जाएँगे

जो चोट खाएँगे और मुस्कुराए जाएँगे

आज़माना है तो बाज़ू दिल की क़ुव्वत

तू भी शमशीर उठा हम भी ग़ज़ल कहते हैं

मरना तो बहुत सहल सी इक बात लगे है

जीना ही मोहब्बत में करामात लगे है

कुछ रोज़ से हम शहर में रुस्वा हुए हैं

फिर कोई इल्ज़ाम लगाने के लिए

मय-कदे की तरफ़ चला ज़ाहिद

सुब्ह का भूला शाम घर आया

the priest now proceeds towards the tavern's door

to the true path returns he who strayed before

the priest now proceeds towards the tavern's door

to the true path returns he who strayed before

मैं मोहब्बत छुपाऊँ तू अदावत छुपा

यही राज़ में अब है वही राज़ में है

सुना है हमें बेवफ़ा तुम कहो हो

ज़रा हम से आँखें मिला लो तो जानें

वो सितम ढाए तो क्या करे उसे क्या ख़बर कि वफ़ा है क्या?

तू उसी को प्यार करे है क्यूँ ये 'कलीम' तुझ को हुआ है क्या?

हमारे क़त्ल से क़ातिल को तजरबा ये हुआ

लहू लहू भी है मेहंदी भी है शराब भी है

अब इंसानों की बस्ती का ये आलम है कि मत पूछो

लगे है आग इक घर में तो हम-साया हवा दे है

मिरा हाल पूछ के हम-नशीं मिरे सोज़-ए-दिल को हवा दे

बस यही दुआ मैं करूँ हूँ अब कि ये ग़म किसी को ख़ुदा दे

मय में कोई ख़ामी है साग़र में कोई खोट

पीना नहीं आए है तो छलकाए चलो हो

दिल दर्द की भट्टी में कई बार जले है

तब एक ग़ज़ल हुस्न के साँचे में ढले है

फ़न में मोजज़ा करामात चाहिए

दिल को लगे बस ऐसी कोई बात चाहिए

हाँ कुछ भी तो देरीना मोहब्बत का भरम रख

दिल से दुनिया को दिखाने के लिए

तुझे संग-दिल ये पता है क्या कि दुखे दिलों की सदा है क्या?

कभी चोट तू ने भी खाई है कभी तेरा दिल भी दुखा है क्या?

कभी ऐसा भी होवे है रोते रोते

जिगर थाम कर मुस्कुराना पड़े है

बहुत दुश्वार समझाना है ग़म का

समझ लेने में दुश्वारी नहीं है

कल कहते रहे हैं वही कल कहते रहेंगे

हर दौर में हम उन पे ग़ज़ल कहते रहेंगे

ये तर्ज़-ए-ख़ास है कोई कहाँ से लाएगा

जो हम कहेंगे किसी से कहा जाएगा

इक घर भी सलामत नहीं अब शहर-ए-वफ़ा में

तू आग लगाने को किधर जाए है प्यारे

इधर हम दिखाते हैं ग़ज़ल का आइना तुझ को

ये किस ने कह दिया गेसू तिरे बरहम नहीं प्यारे

तपिश पतिंगों को बख़्श देंगे लहू चराग़ों में ढाल देंगे

हम उन की महफ़िल में रह गए हैं तो उन की महफ़िल सँभाल देंगे

अपना दिल सीना-ए-अशआर में रख देते हैं

कुछ हक़ीक़त भी ज़रूरी है फ़साने के लिए

मौसम-ए-गुल हमें जब याद आया

जितना ग़म भूले थे सब याद आया