Kunwar Mahendra Singh Bedi Sahar's Photo'

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

1909 - 1992 | दिल्ली, भारत

584
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मुस्कुराना कभी रास आया

हर हँसी एक वारदात बनी

आएँ हैं समझाने लोग

हैं कितने दीवाने लोग

उठा सुराही ये शीशा वो जाम ले साक़ी

फिर इस के बाद ख़ुदा का भी नाम ले साक़ी

मरना तो लाज़िम है इक दिन जी भर के अब जी तो लूँ

मरने से पहले मर जाना मेरे बस की बात नहीं

शोख़ी शबाब हुस्न तबस्सुम हया के साथ

दिल ले लिया है आप ने किस किस अदा के साथ

फिर इस के बाद हमें तिश्नगी रहे रहे

कुछ और देर मुरव्वत से काम ले साक़ी

किसी इक-आध मय-कश से ख़ता कुछ हो गई होगी

मगर क्यूँ मय-कदे का मय-कदा बद-नाम है साक़ी

ज़िंदगी मौत बन गई होती जान से हम गुज़र गए होते

इतने इशरत-ज़दा हैं हम कि अगर ग़म होता तो मर गए होते

इन शोख़ हसीनों की निराली है अदा भी

बुत हो के समझते हैं कि जैसे हैं ख़ुदा भी

साक़ी मय साग़र पैमाना मेरे बस की बात नहीं

सिर्फ़ इन्ही से दिल बहलाना मेरे बस की बात नहीं

हर लम्हा माँगते हैं दुआ दीद-ए-यार की

याद-ए-बुताँ भी दिल में है याद-ए-ख़ुदा के साथ

इश्क़ मोहब्बत क्या होते हैं क्या समझाऊँ वाइज़ को

भैंस के आगे बीन बजाना मेरे बस की बात नहीं

मिरे सवाल-ए-विसाल पर तुम नज़र झुका कर खड़े हुए हो

तुम्हीं बताओ ये बात क्या है सवाल पूरा जवाब आधा

ग़म-ए-सूद-ओ-ज़ियाँ से बे-नियाज़ाना निकलता है

बड़ी फ़र्ज़ानगी से तेरा दीवाना निकलता है