Mah Laqa Chanda's Photo'

मह लक़ा चंदा

1768 - 1824 | हैदराबाद, भारत

मह लक़ा चंदा

ग़ज़ल 13

अशआर 14

गुल के होने की तवक़्क़ो पे जिए बैठी है

हर कली जान को मुट्ठी में लिए बैठी है

  • शेयर कीजिए

कभी सय्याद का खटका है कभी ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ

बुलबुल अब जान हथेली पे लिए बैठी है

  • शेयर कीजिए

गर मिरे दिल को चुराया नहीं तू ने ज़ालिम

खोल दे बंद हथेली को दिखा हाथों को

  • शेयर कीजिए

ब-जुज़ हक़ के नहीं है ग़ैर से हरगिज़ तवक़्क़ो कुछ

मगर दुनिया के लोगों में मुझे है प्यार से मतलब

तीर तलवार से बढ़ कर है तिरी तिरछी निगह

सैकड़ों आशिक़ों का ख़ून किए बैठी है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 8

 

चित्र शायरी 3

 

ऑडियो 12

आलम तिरी निगह से है सरशार देखना

गरचे गुल की सेज हो तिस पर भी उड़ जाती है नींद

गुल के होने की तवक़्क़ो' पे जिए बैठी है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित शायर

"हैदराबाद" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए