ग़ज़ल 1

 

शेर 3

ज़बाँ ज़बाँ पे शोर था कि रात ख़त्म हो गई

यहाँ सहर की आस में हयात ख़त्म हो गई

  • शेयर कीजिए

जिन की हसरत में दिल-ए-रुस्वा ने ग़म खाए बहुत

संग हम पर इन दरीचों ने ही बरसाए बहुत

एक रस्म-ए-सरफ़रोशी थी सो रुख़्सत हो गई

यूँ तो दीवाने हमारे ब'अद भी आए बहुत

 

"कराची" के और शायर

  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • महशर बदायुनी महशर बदायुनी
  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी
  • ज़ेहरा निगाह ज़ेहरा निगाह
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी