Razi Akhtar Shauq's Photo'

रज़ी अख़्तर शौक़

1933 - 1999 | कराची, पाकिस्तान

ग़ज़ल 39

शेर 6

आप ही आप दिए बुझते चले जाते हैं

और आसेब दिखाई भी नहीं देता है

हम रूह-ए-सफ़र हैं हमें नामों से पहचान

कल और किसी नाम से जाएँगे हम लोग

  • शेयर कीजिए

दो बादल आपस में मिले थे फिर ऐसी बरसात हुई

जिस्म ने जिस्म से सरगोशी की रूह की रूह से बात हुई

मुझ को पाना है तो फिर मुझ में उतर कर देखो

यूँ किनारे से समुंदर नहीं देखा जाता

  • शेयर कीजिए

हम इतने परेशाँ थे कि हाल-ए-दिल-ए-सोज़ाँ

उन को भी सुनाया कि जो ग़म-ख़्वार नहीं थे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Mere Mosam Mere Khawab

 

1986

 

चित्र शायरी 1

मुझ को पाना है तो फिर मुझ में उतर कर देखो यूँ किनारे से समुंदर नहीं देखा जाता

 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

रज़ी अख़्तर शौक़

रज़ी अख़्तर शौक़

ख़ुश्बू हैं तो हर दौर को महकाएँगे हम लोग

रज़ी अख़्तर शौक़

दिन का मलाल शाम की वहशत कहाँ से लाएँ

रज़ी अख़्तर शौक़

संबंधित शायर

  • अनवर ख़लील अनवर ख़लील समकालीन

"कराची" के और शायर

  • जौन एलिया जौन एलिया
  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी
  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • मोहसिन एहसान मोहसिन एहसान
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास