Mansoor Usmani's Photo'

मंसूर उस्मानी

1954 | मुरादाबाद, भारत

ग़ज़ल 15

शेर 15

आँखों से मोहब्बत के इशारे निकल आए

बरसात के मौसम में सितारे निकल आए

मुझ से दिल्ली की नहीं दिल की कहानी सुनिए

शहर तो ये भी कई बार लुटा है मुझ में

जहाँ जहाँ कोई उर्दू ज़बान बोलता है

वहीं वहीं मिरा हिन्दोस्तान बोलता है

  • शेयर कीजिए

पहले तो उस की याद ने सोने नहीं दिया

फिर उस की आहटों ने कहा जागते रहो

अपनी तारीफ़ सुनी है तो ये सच भी सुन ले

तुझ से अच्छा तिरा किरदार नहीं हो सकता

पुस्तकें 1

कश्मकश

 

2007

 

संबंधित शायर

  • गौहर उस्मानी गौहर उस्मानी पिता

"मुरादाबाद" के और शायर

  • जिगर मुरादाबादी जिगर मुरादाबादी
  • ज़िया ज़मीर ज़िया ज़मीर
  • दुष्यंत कुमार दुष्यंत कुमार
  • गौहर उस्मानी गौहर उस्मानी
  • सुबहान असद सुबहान असद
  • एजाज़ वारसी एजाज़ वारसी
  • शाकिर हुसैन इस्लाही शाकिर हुसैन इस्लाही
  • आरिफ हसन  ख़ान आरिफ हसन ख़ान
  • मुजाहिद फ़राज़ मुजाहिद फ़राज़
  • सग़ीर अालम सग़ीर अालम