noImage

एजाज़ वारसी

1911 - 1993 | मुरादाबाद, भारत

एजाज़ वारसी

ग़ज़ल 11

अशआर 7

मैं उस के ऐब उस को बताता भी किस तरह

वो शख़्स आज तक मुझे तन्हा नहीं मिला

  • शेयर कीजिए

राह-रौ बच के चल दरख़्तों से

धूप दुश्मन नहीं है साए हैं

  • शेयर कीजिए

आप आए हैं हाल पूछा है

हम ने ऐसे भी ख़्वाब देखे हैं

  • शेयर कीजिए

चढ़ते सूरज की मुदारात से पहले 'एजाज़'

सोच लो कितने चराग़ उस ने बुझाए होंगे

  • शेयर कीजिए

बरसों में भी छू जाए किसी को तो ग़नीमत

ख़ुशबू-ए-वफ़ा यारो बड़ी सुस्त-क़दम है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

 

"मुरादाबाद" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए