Mansoor Usmani's Photo'

मंसूर उस्मानी

1954 | मुरादाबाद, भारत

मंसूर उस्मानी के शेर

2.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

आँखों से मोहब्बत के इशारे निकल आए

बरसात के मौसम में सितारे निकल आए

मुझ से दिल्ली की नहीं दिल की कहानी सुनिए

शहर तो ये भी कई बार लुटा है मुझ में

जहाँ जहाँ कोई उर्दू ज़बान बोलता है

वहीं वहीं मिरा हिन्दोस्तान बोलता है

पहले तो उस की याद ने सोने नहीं दिया

फिर उस की आहटों ने कहा जागते रहो

अपनी तारीफ़ सुनी है तो ये सच भी सुन ले

तुझ से अच्छा तिरा किरदार नहीं हो सकता

ख़ुशबू से किस ज़बान में बातें करेंगे लोग

महफ़िल में ये सवाल तुझे देख कर हुआ

जिस को बचाए रखने में अज्दाद बिक गए

हम ने उसी हवेली को नीलाम कर दिया

हालात क्या ये तेरे बिछड़ने से हो गए

लगता है जैसे हम किसी मेले में खो गए

इस शहर में चलती है हवा और तरह की

जुर्म और तरह के हैं सज़ा और तरह की

हम ने कुछ गीत लिखे हैं जो सुनाना हैं तुम्हें

तुम कभी बज़्म सजाना तो ख़बर कर देना

ख़ुशबू का क़ाफ़िला ये बहारों का सिलसिला

पहुँचा है शहर तक तो मिरे घर भी आएगा

ये अलग बात कि अल्फ़ाज़ हैं मेरे लेकिन

सच तो बस ये है कि तेरी ही सदा है मुझ में

ख़ुदा के नाम पे क्या क्या फ़रेब देते हैं

ज़माना-साज़ ये रहबर भी मैं भी दुनिया भी

जो फाँस चुभ रही है दिलों में वो तू निकाल

जो पाँव में चुभी थी उसे हम निकाल आए

शबनम की जगह आग की बारिश हो मगर हम

'मंसूर' माँगेंगे दुआ और तरह की