ग़ज़ल 19

शेर 4

बात तेरी सुनी नहीं मैं ने

ध्यान मेरा तिरी नज़र पर था

  • शेयर कीजिए

वो क्या गया कि हर इक शख़्स रह गया तन्हा

उसी के दम से थीं बाहम रिफाक़तें सारी

ऐसा दिल-कश था कि थी मौत भी मंज़ूर हमें

हम ने जिस जुर्म की काटी है सज़ा ज़िंदाँ में

हर शय लम्हे की मेहमाँ है क्या गुल क्या ख़ुशबू

क्या मय क्या नश्शा-ए-आईना क्या आईना-रू

"रावलपिंडी" के और शायर

  • अख़्तर होशियारपुरी अख़्तर होशियारपुरी
  • साबिर ज़फ़र साबिर ज़फ़र
  • जलील ’आली’ जलील ’आली’
  • बाक़ी सिद्दीक़ी बाक़ी सिद्दीक़ी
  • शुमामा उफ़ुक़ शुमामा उफ़ुक़
  • हसन अब्बास रज़ा हसन अब्बास रज़ा
  • अफ़ज़ल मिनहास अफ़ज़ल मिनहास
  • नवेद फ़िदा सत्ती नवेद फ़िदा सत्ती
  • यूसुफ़ ज़फ़र यूसुफ़ ज़फ़र
  • मुसतफ़ा राही मुसतफ़ा राही