ग़ज़ल 6

शेर 5

ज़िंदगी ख़्वाब देखती है मगर

ज़िंदगी ज़िंदगी है ख़्वाब नहीं

  • शेयर कीजिए

यूँ तो अश्कों से भी होता है अलम का इज़हार

हाए वो ग़म जो तबस्सुम से अयाँ होता है

  • शेयर कीजिए

मुझे ये ज़ोम कि मैं हुस्न का मुसव्विर हूँ

उन्हें ये नाज़ कि तस्वीर तो हमारी है

पत्थर भी चटख़्ते हैं तो दे जाते हैं आवाज़

दिल टूट रहे हैं तो सदा क्यूँ नहीं देते

  • शेयर कीजिए

क्या मेरी तरह ख़ानमाँ-बर्बाद हो तुम भी

क्या बात है तुम घर का पता क्यूँ नहीं देते

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Chashm-e-Khayal

 

1994

Khushboo Ki Dhanak

 

1996

Nawishta

 

1979

 

"कराची" के और शायर

  • सज्जाद बाक़र रिज़वी सज्जाद बाक़र रिज़वी
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • महशर बदायुनी महशर बदायुनी
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • दिलावर फ़िगार दिलावर फ़िगार
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • जमीलुद्दीन आली जमीलुद्दीन आली
  • ज़ेहरा निगाह ज़ेहरा निगाह
  • अज़ीज़ हामिद मदनी अज़ीज़ हामिद मदनी