Mazhar Imam's Photo'

मज़हर इमाम

1928 - 2012 | दिल्ली, भारत

प्रमुखतम आधुकि शायरों में विख्यात/दूर दर्शन से संबंध

प्रमुखतम आधुकि शायरों में विख्यात/दूर दर्शन से संबंध

दोस्तों से मुलाक़ात की शाम है

ये सज़ा काट कर अपने घर जाऊँगा

अब तो कुछ भी याद नहीं है

हम ने तुम को चाहा होगा

अक्सर ऐसा भी मोहब्बत में हुआ करता है

कि समझ-बूझ के खा जाता है धोका कोई

हैं चनारों के चेहरे भी झुलसे हुए

ज़ख़्म सब का हरा है तिरे शहर में

अस्र-ए-नौ मुझ को निगाहों मैं छुपा कर रख ले

एक मिटती हुई तहज़ीब का सरमाया हूँ

मोहब्बत आप ही मंज़िल है अपनी

जाने हुस्न क्यूँ इतरा रहा है

आप को मेरे तआरुफ़ की ज़रूरत क्या है

मैं वही हूँ कि जिसे आप ने चाहा था कभी

उस घर की बदौलत मिरे शेरों को है शोहरत

वो घर कि जो इस शहर में बदनाम बहुत है

अब किसी राह पे जलते नहीं चाहत के चराग़

तू मिरी आख़िरी मंज़िल है मिरा साथ छोड़

एक मैं ने ही उगाए नहीं ख़्वाबों के गुलाब

तू भी इस जुर्म में शामिल है मिरा साथ छोड़

वो मेरा जब हो सका तो फिर यही सज़ा रहे

किसी को प्यार जब करूँ वो छुप के देखता रहे

हमें वो हमीं से जुदा कर गया

बड़ा ज़ुल्म इस मेहरबानी में था

चलो हम भी वफ़ा से बाज़ आए

मोहब्बत कोई मजबूरी नहीं है

निगाह दिल के पास हो वो मेरा आश्ना रहे

हवस है या कि इश्क़ है ये कौन सोचता रहे

इतनी दूर जाइए कि लोग पूछने लगें

किसी को दिल की क्या ख़बर ये हाथ तो मिला रहे

सफ़र में अचानक सभी रुक गए

अजब मोड़ अपनी कहानी में था

हम ने तो दरीचों पे सजा रक्खे हैं पर्दे

बाहर है क़यामत का जो मंज़र तो हमें क्या

अब उस को सोचते हैं और हँसते जाते हैं

कि तेरे ग़म से तअल्लुक़ रहा है कितनी देर

जब हम तेरा नाम लेंगे

वो भी एक ज़माना होगा

बस्तियों का उजड़ना बसना क्या

बे-झिजक क़त्ल-ए-आम करता जा

कहा ये सब ने कि जो वार थे उसी पर थे

मगर ये क्या कि बदन चूर चूर मेरा था

समेट लें मह ख़ुर्शीद रौशनी अपनी

सलाहियत है ज़मीं में भी जगमगाने की

एक दर्द-ए-जुदाई का ग़म क्या करें

किस मरज़ की दवा है तिरे शहर में

किस सम्त जा रहा है ज़माना कहा जाए

उकता गए हैं लोग फ़साना कहा जाए

रात आँखों में हया ले के गुज़र जाती थी

लम्हा-ए-शौक़ बहुत चीं-ब-जबीं रहता था

तू होगा तो कहाँ जा के जलूँगा शब भर

तुझ से ही गर्मी-ए-महफ़िल है मिरा साथ छोड़

Added to your favorites

Removed from your favorites