Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर

मिन्हाज अली

ग़ज़ल 2

 

अशआर 6

गुलशन-ए-दहर से ख़ुशबू की तरह गुज़रा मैं

सब को महकाया मगर अपनी नुमाइश नहीं की

  • शेयर कीजिए

दीदार का विसाल में आया कोई लुत्फ़

उस रुख़ पे बे-रुख़ी के थे पर्दे पड़े हुए

  • शेयर कीजिए

यही है वक़्त कि जी भर के देख लूँ उस को

वो सामने है मगर देखता नहीं है मुझे

  • शेयर कीजिए

दरमियाँ गरचे हिजाबात नहीं दूरी के

अब जो हाइल है वो पर्दा है शनासाई का

  • शेयर कीजिए

ग़ौर से देख गुलशन-ए-दुनिया

हर तरफ़ ख़्वाहिशों का दलदल है

  • शेयर कीजिए

रुबाई 2

 

"कराची" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए