noImage

मिर्ज़ा मायल देहलवी

1866 - 1894 | दिल्ली, भारत

उत्तर-क्लासिकी शायर, दाग़ देहलवी के रंग में शायरी के लिए मशहूर

उत्तर-क्लासिकी शायर, दाग़ देहलवी के रंग में शायरी के लिए मशहूर

ग़ज़ल 14

शेर 13

तुझ को देखा तिरे नाज़-ओ-अदा को देखा

तेरी हर तर्ज़ में इक शान-ए-ख़ुदा को देखा

मुझे काफ़िर ही बताता है ये वाइज़ कम-बख़्त

मैं ने बंदों में कई बार ख़ुदा को देखा

तल्ख़ी तुम्हारे वाज़ में है वाइज़ो मगर

देखो तो किस मज़े की है तल्ख़ी शराब में

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

Kalam-e-Mayel

 

1964

कुल्लियात-ए-माएल

भाग-001

1976

 

"दिल्ली" के और शायर

  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब
  • मज़हर इमाम मज़हर इमाम
  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी