Mirza Raza Barq's Photo'

मिर्ज़ा रज़ा बर्क़

1790 - 1857 | लखनऊ, भारत

लखनऊ स्कूल के प्रमुख क्लासिकी शायर / अवध के आख़री नवाब, वाजिद अली शाह के उस्ताद

लखनऊ स्कूल के प्रमुख क्लासिकी शायर / अवध के आख़री नवाब, वाजिद अली शाह के उस्ताद

मिर्ज़ा रज़ा बर्क़ के शेर

4.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सनम वस्ल की तदबीरों से क्या होता है

वही होता है जो मंज़ूर-ए-ख़ुदा होता है

हमारे ऐब ने बे-ऐब कर दिया हम को

यही हुनर है कि कोई हुनर नहीं आता

इतना तो जज़्ब-ए-इश्क़ ने बारे असर किया

उस को भी अब मलाल है मेरे मलाल का

दौलत नहीं काम आती जो तक़दीर बुरी हो

क़ारून को भी अपना ख़ज़ाना नहीं मिलता

किस तरह मिलें कोई बहाना नहीं मिलता

हम जा नहीं सकते उन्हें आना नहीं मिलता

पूछा अगर किसी ने मिरा के हाल-ए-दिल

बे-इख़्तियार आह लबों से निकल गई

हम तो अपनों से भी बेगाना हुए उल्फ़त में

तुम जो ग़ैरों से मिले तुम को ग़ैरत आई

बे-बुलाए हुए जाना मुझे मंज़ूर नहीं

उन का वो तौर नहीं मेरा ये दस्तूर नहीं

बाद-ए-फ़ना भी है मरज़-ए-इश्क़ का असर

देखो कि रंग ज़र्द है मेरे ग़ुबार का

अगर हयात है देखेंगे एक दिन दीदार

कि माह-ए-ईद भी आख़िर है इन महीनों में

सिकंदर है दारा है क़ैसर है जम

बे-महल ख़ाक में हैं क़स्र बनाने वाले

अंगड़ाई दोनों हाथ उठा कर जो उस ने ली

पर लग गए परों ने परी को उड़ा दिया

असर ज़ुल्फ़ का बरमला हो गया

बलाओं से मिल कर बला हो गया

देख कर तूल-ए-शब-ए-हिज्र दुआ करता हूँ

वस्ल के रोज़ से भी उम्र मिरी कम हो जाए

नहीं बुतों के तसव्वुर से कोई दिल ख़ाली

ख़ुदा ने उन को दिए हैं मकान सीनों में

उर्यां हरारत-ए-तप-ए-फ़ुर्क़त से मैं रहा

हर बार मेरे जिस्म की पोशाक जल गई

गया शबाब पैग़ाम-ए-वस्ल-ए-यार आया

जला दो काट के इस नख़्ल में बार आया

ख़ुद-फ़रोशी को जो तू निकले ब-शक्ल-ए-यूसुफ़

सनम तेरी ख़रीदार ख़ुदाई हो जाए

छुप सका दम भर राज़-ए-दिल फ़िराक़-ए-यार में

वो निहाँ जिस दम हुआ सब आश्कारा हो गया

जोश-ए-वहशत यही कहता है निहायत कम है

दो जहाँ से भी अगर वुसअत-ए-सहरा बढ़ जाए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए