Momin Khan Momin's Photo'

मोमिन ख़ाँ मोमिन

1800 - 1852 | दिल्ली, भारत

ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन। वह हकीम, ज्योतिषी और शतरंज के खिलाड़ी भी थे। कहा जाता है मिर्ज़ा ग़ालीब ने उनके शेर ' तुम मेरे पास होते हो गोया/ जब कोई दूसरा नही होता ' पर अपना पूरा दीवान देने की बात कही थी।

ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन। वह हकीम, ज्योतिषी और शतरंज के खिलाड़ी भी थे। कहा जाता है मिर्ज़ा ग़ालीब ने उनके शेर ' तुम मेरे पास होते हो गोया/ जब कोई दूसरा नही होता ' पर अपना पूरा दीवान देने की बात कही थी।

ग़ज़ल

असर उस को ज़रा नहीं होता

शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

फ़हद हुसैन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

शम्सुर रहमान फ़ारूक़ी

असर उस को ज़रा नहीं होता

फ़सीह अकमल

इस वुसअत-ए-कलाम से जी तंग आ गया

फ़सीह अकमल

ग़ैरों पे खुल न जाए कहीं राज़ देखना

फ़सीह अकमल

जूँ निकहत-ए-गुल जुम्बिश है जी का निकल जाना

फ़सीह अकमल

दिल क़ाबिल-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ नहीं रहा

फ़सीह अकमल

दीदा-ए-हैराँ ने तमाशा किया

फ़सीह अकमल

ये उज़्र-ए-इम्तिहान-ए-जज़्ब-ए-दिल कैसा निकल आया

फ़सीह अकमल

वादा-ए-वस्लत से दिल हो शाद क्या

फ़सीह अकमल

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

नय्यरा नूर

शोख़ कहता है बे-हया जाना

फ़सीह अकमल

हम-रंग लाग़री से हूँ गुल की शमीम का

फ़सीह अकमल

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI