noImage

मुन्नी बाई हिजाब

कोलकाता, भारत

ग़ज़ल 1

 

शेर 2

दिल बहुत बेचैन बे-आराम है

क्या मोहब्बत का यही अंजाम है

  • शेयर कीजिए

कहूँगा दावर-ए-महशर कर दिया जाए

कि उम्र भर उसी काफ़िर को मैं ने प्यार किया

  • शेयर कीजिए
 

"कोलकाता" के और शायर

  • मुर्ली धर शर्मा तालिब मुर्ली धर शर्मा तालिब
  • मुज़्तर हैदरी मुज़्तर हैदरी
  • अमीर रज़ा मज़हरी अमीर रज़ा मज़हरी
  • हुरमतुल इकराम हुरमतुल इकराम
  • यूसुफ़ तक़ी यूसुफ़ तक़ी
  • ख़ुर्शीद अहमद मलिक ख़ुर्शीद अहमद मलिक
  • हलीम साबिर हलीम साबिर
  • शगुफ़्ता यासमीन शगुफ़्ता यासमीन
  • नाज़िम सुल्तानपूरी नाज़िम सुल्तानपूरी
  • आसिम शहनवाज़ शिबली आसिम शहनवाज़ शिबली