Mustafa Zaidi's Photo'

मुस्तफ़ा ज़ैदी

1929 - 1970 | कराची, पाकिस्तान

तेग़ इलाहाबादी के नाम से भी विख्यात, पाकिस्तान में सी एस पी अफ़सर थे, रहस्यमय हालात में क़त्ल किए गए।

तेग़ इलाहाबादी के नाम से भी विख्यात, पाकिस्तान में सी एस पी अफ़सर थे, रहस्यमय हालात में क़त्ल किए गए।

3.6K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

इन्हीं पत्थरों पे चल कर अगर सको तो आओ

मिरे घर के रास्ते में कोई कहकशाँ नहीं है

मिरी रूह की हक़ीक़त मिरे आँसुओं से पूछो

मिरा मज्लिसी तबस्सुम मिरा तर्जुमाँ नहीं है

मैं किस के हाथ पे अपना लहू तलाश करूँ

तमाम शहर ने पहने हुए हैं दस्ताने

दिल के रिश्ते अजीब रिश्ते हैं

साँस लेने से टूट जाते हैं

इस तरह होश गँवाना भी कोई बात नहीं

और यूँ होश से रहने में भी नादानी है

रूह के इस वीराने में तेरी याद ही सब कुछ थी

आज तो वो भी यूँ गुज़री जैसे ग़रीबों का त्यौहार

इश्क़ इन ज़ालिमों की दुनिया में

कितनी मज़लूम ज़ात है दिल

ख़ुद अपने शब-ओ-रोज़ गुज़र जाएँगे लेकिन

शामिल है मिरे ग़म में तिरी दर-बदरी भी

उतरा था जिस पे बाब-ए-हया का वरक़ वरक़

बिस्तर के एक एक शिकन की शरीक थी

जिस दिन से अपना तर्ज़-ए-फ़क़ीराना छुट गया

शाही तो मिल गई दिल-ए-शाहाना छुट गया

ग़म-ए-दौराँ ने भी सीखे ग़म-ए-जानाँ के चलन

वही सोची हुई चालें वही बे-साख़्ता-पन

तितलियाँ उड़ती हैं और उन को पकड़ने वाले

सई-ए-नाकाम में अपनों से बिछड़ जाते हैं

आँख झुक जाती है जब बंद-ए-क़बा खुलते हैं

तुझ में उठते हुए ख़ुर्शीद की उर्यानी है

इक मौज-ए-ख़ून-ए-ख़ल्क़ थी किस की जबीं पे थी

इक तौक़-ए-फ़र्द-ए-जुर्म था किस के गले में था

नावक-ए-ज़ुल्म उठा दशना-ए-अंदोह सँभाल

लुत्फ़ के ख़ंजर-ए-बे-नाम से मत मार मुझे