aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Nazeer Akbarabadi's Photo'

नज़ीर अकबराबादी

1735 - 1830 | आगरा, भारत

मीर तक़ी ' मीर ' के समकालीन अग्रणी शायर जिन्होंने भारतीय संस्कृति और त्योहारों पर नज्में लिखीं। होली , दीवाली , श्रीकृष्ण पर नज़्मों के लिए मशहूर

मीर तक़ी ' मीर ' के समकालीन अग्रणी शायर जिन्होंने भारतीय संस्कृति और त्योहारों पर नज्में लिखीं। होली , दीवाली , श्रीकृष्ण पर नज़्मों के लिए मशहूर

नज़ीर अकबराबादी के शेर

20.2K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जुदा किसी से किसी का ग़रज़ हबीब हो

ये दाग़ वो है कि दुश्मन को भी नसीब हो

था इरादा तिरी फ़रियाद करें हाकिम से

वो भी एे शोख़ तिरा चाहने वाला निकला

मय पी के जो गिरता है तो लेते हैं उसे थाम

नज़रों से गिरा जो उसे फिर किस ने सँभाला

थे हम तो ख़ुद-पसंद बहुत लेकिन इश्क़ में

अब है वही पसंद जो हो यार को पसंद

दिल की बेताबी नहीं ठहरने देती है मुझे

दिन कहीं रात कहीं सुब्ह कहीं शाम कहीं

क्यूँ नहीं लेता हमारी तू ख़बर बे-ख़बर

क्या तिरे आशिक़ हुए थे दर्द-ओ-ग़म खाने को हम

दूर से आए थे साक़ी सुन के मय-ख़ाने को हम

बस तरसते ही चले अफ़्सोस पैमाने को हम

जिस काम को जहाँ में तू आया था 'नज़ीर'

ख़ाना-ख़राब तुझ से वही काम रह गया

ख़ुदा के वास्ते गुल को मेरे हाथ से लो

मुझे बू आती है इस में किसी बदन की सी

भुला दीं हम ने किताबें कि उस परी-रू के

किताबी चेहरे के आगे किताब है क्या चीज़

तू जो कल आने को कहता है 'नज़ीर'

तुझ को मालूम है कल क्या होगा

बदन गुल चेहरा गुल रुख़्सार गुल लब गुल दहन है गुल

सरापा अब तो वो रश्क-ए-चमन है ढेर फूलों का

तुम्हारे हिज्र में आँखें हमारी मुद्दत से

नहीं ये जानतीं दुनिया में ख़्वाब है क्या चीज़

किस को कहिए नेक और ठहराइए किस को बुरा

ग़ौर से देखा तो सब अपने ही भाई-बंद हैं

कूचे में उस के बैठना हुस्न को उस के देखना

हम तो उसी को समझे हैं बाग़ भी और बहार भी

देखेंगे हम इक निगाह उस को

कुछ होश अगर बजा रहेगा

ज़माने के हाथों से चारा नहीं है

ज़माना हमारा तुम्हारा नहीं है

सब किताबों के खुल गए मअ'नी

जब से देखी 'नज़ीर' दिल की किताब

मैं हूँ पतंग-ए-काग़ज़ी डोर है उस के हाथ में

चाहा इधर घटा दिया चाहा उधर बढ़ा दिया

जो ख़ुशामद करे ख़ल्क़ उस से सदा राज़ी है

सच तो ये है कि ख़ुशामद से ख़ुदा राज़ी है

मय भी है मीना भी है साग़र भी है साक़ी नहीं

दिल में आता है लगा दें आग मय-ख़ाने को हम

अभी कहें तो किसी को ए'तिबार आवे

कि हम को राह में इक आश्ना ने लूट लिया

आते ही जो तुम मेरे गले लग गए वल्लाह

उस वक़्त तो इस गर्मी ने सब मात की गर्मी

बाग़ में लगता नहीं सहरा से घबराता है दिल

अब कहाँ ले जा के बैठें ऐसे दीवाने को हम

शहर-ए-दिल आबाद था जब तक वो शहर-आरा रहा

जब वो शहर-आरा गया फिर शहर-ए-दिल में क्या रहा

अब तो ज़रा सा गाँव भी बेटी दे उसे

लगता था वर्ना चीन का दामाद आगरा

मरता है जो महबूब की ठोकर पे 'नज़ीर' आह

फिर उस को कभी और कोई लत नहीं लगती

इतना ज़ुल्म कर चाँदनी बहर-ए-ख़ुदा छुप जा

तुझे देखे से याद आता है मुझ को माहताब अपना

है दसहरे में भी यूँ गर फ़रहत-ओ-ज़ीनत 'नज़ीर'

पर दिवाली भी अजब पाकीज़ा-तर त्यौहार है

हुस्न के नाज़ उठाने के सिवा

हम से और हुस्न-ए-अमल क्या होगा

अकेला उस को छोड़ा जो घर से निकला वो

हर इक बहाने से मैं उस सनम के साथ रहा

बंदे के क़लम हाथ में होता तो ग़ज़ब था

सद शुक्र कि है कातिब-ए-तक़दीर कोई और

कल शब-ए-वस्ल में क्या जल्द बजी थीं घड़ियाँ

आज क्या मर गए घड़ियाल बजाने वाले

हम हाल तो कह सकते हैं अपना कहें क्या

जब वो इधर आते हैं तो तन्हा नहीं आते

बे-ज़री फ़ाक़ा-कशी मुफ़्लिसी बे-सामानी

हम फ़क़ीरों के भी हाँ कुछ नहीं और सब कुछ है

जो बात हिज्र की आती तो अपने दामन से

वो आँसू पोंछता जाता था और मैं रोता था

अश्कों के तसलसुल ने छुपाया तन-ए-उर्यां

ये आब-ए-रवाँ का है नया पैरहन अपना

जिसे मोल लेना हो ले ले ख़ुशी से

मैं इस वक़्त दोनों जहाँ बेचता हूँ

दिल की बे-ताबी ठहरने नहीं देती मुझ को

दिन कहीं रात कहीं सुब्ह कहीं शाम कहीं

तूफ़ाँ उठा रहा है मिरे दिल में सैल-ए-अश्क

वो दिन ख़ुदा लाए जो मैं आब-दीदा हूँ

उस बेवफ़ा ने हम को अगर अपने इश्क़ में

रुस्वा किया ख़राब किया फिर किसी को क्या

ख़फ़ा देखा है उस को ख़्वाब में दिल सख़्त मुज़्तर है

खिला दे देखिए क्या क्या गुल-ए-ताबीर-ए-ख़्वाब अपना

यार के आगे पढ़ा ये रेख़्ता जा कर 'नज़ीर'

सुन के बोला वाह-वाह अच्छा कहा अच्छा कहा

देख ले इस चमन-ए-दहर को दिल भर के 'नज़ीर'

फिर तिरा काहे को इस बाग़ में आना होगा

अबस मेहनत है कुछ हासिल नहीं पत्थर-तराशी से

यही मज़मून था फ़रहाद के तेशे की खट-खट का

जिस्म क्या रूह की है जौलाँ-गाह

रूह क्या इक सवार-ए-पा-ब-रकाब

जा पड़े चुप हो के जब शहर-ए-ख़मोशाँ में 'नज़ीर'

ये ग़ज़ल ये रेख़्ता ये शेर-ख़्वानी फिर कहाँ

सर-चश्मा-ए-बक़ा से हरगिज़ आब लाओ

हज़रत ख़िज़र कहीं से जा कर शराब लाओ

आँखों में मेरी सुब्ह-ए-क़यामत गई झमक

सीने से उस परी के जो पर्दा उलट गया

ग़श खा के गिरा पहले ही शोले की झलक से

मूसा को भला कहिए तो क्या तूर की सूझी

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए