noImage

नाज़िम सुल्तानपूरी

1927 | कोलकाता, भारत

नाज़िम सुल्तानपूरी

ग़ज़ल 17

अशआर 4

कितनी वीरान है गली दिल की

दूर तक कोई नक़्श-ए-पा भी नहीं

  • शेयर कीजिए

बड़े क़लक़ की बात है कि तुम इसे पढ़ सके

हमारी ज़िंदगी तो इक खुली हुई किताब थी

  • शेयर कीजिए

इक़तिज़ा वक़्त का जो चाहे करा ले वर्ना

हम थे ग़ैर के एहसान उठाने वाले

  • शेयर कीजिए

अपनी संजीदा तबीअत पे तो अक्सर 'नाज़िम'

फ़िक्र के शोख़ उजाले भी गिराँ होते हैं

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

"कोलकाता" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI