noImage

नाज़िम सुल्तानपूरी

1927 | कोलकाता, भारत

ग़ज़ल 3

 

शेर 4

कितनी वीरान है गली दिल की

दूर तक कोई नक़्श-ए-पा भी नहीं

  • शेयर कीजिए

बड़े क़लक़ की बात है कि तुम इसे पढ़ सके

हमारी ज़िंदगी तो इक खुली हुई किताब थी

  • शेयर कीजिए

इक़तिज़ा वक़्त का जो चाहे करा ले वर्ना

हम थे ग़ैर के एहसान उठाने वाले

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 2

हर्फ़-ए-आगही

 

1977

 

"कोलकाता" के और शायर

  • शगुफ़्ता यासमीन शगुफ़्ता यासमीन
  • सय्यद मोहम्मद मस्त कलकत्तवी सय्यद मोहम्मद मस्त कलकत्तवी
  • शहनाज़ नबी शहनाज़ नबी
  • मुन्नी बाई हिजाब मुन्नी बाई हिजाब
  • हुरमतुल इकराम हुरमतुल इकराम
  • सादिक़-उल-क़ादरी सादिक़-उल-क़ादरी
  • मुज़्तर हैदरी मुज़्तर हैदरी
  • शहूद आलम आफ़ाक़ी शहूद आलम आफ़ाक़ी
  • जाफ़र साहनी जाफ़र साहनी
  • यूसुफ़ तक़ी यूसुफ़ तक़ी