noImage

नज़्मी सिकंदराबादी

दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 2

 

शेर 2

नसीब होंगी उसे कामयाबियाँ 'नजमी'

ख़ुशी के साथ जो हर इम्तिहाँ से गुज़रेगा

डरेंगे लोग वफ़ा के ख़याल से 'नज़मी'

मिरी वफ़ाओं का जिस दिन सिला मिलेगा मुझे

 

पुस्तकें 2

Hisar-e-Fikr

 

1995

Karb-e-Ehsas

 

1988

 

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक