noImage

परवीन उम्म-ए-मुश्ताक़

1866 | दिल्ली, भारत

परवीन उम्म-ए-मुश्ताक़

ग़ज़ल 42

अशआर 39

आबदीदा हो के वो आपस में कहना अलविदा'अ

उस की कम मेरी सिवा आवाज़ भर्राई हुई

ज़ाहिद सँभल ग़ुरूर ख़ुदा को नहीं पसंद

फ़र्श-ए-ज़मीं पे पाँव दिमाग़ आसमान पर

  • शेयर कीजिए

वो ही आसान करेगा मिरी दुश्वारी को

जिस ने दुश्वार किया है मिरी आसानी को

  • शेयर कीजिए

गर आप पहले रिश्ता-ए-उल्फ़त तोड़ते

मर मिट के हम भी ख़ैर निभाते किसी तरह

  • शेयर कीजिए

मख़्लूक़ को तुम्हारी मोहब्बत में बुतो

ईमान का ख़याल इस्लाम का लिहाज़

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

 

ऑडियो 5

करेंगे ज़ुल्म दुनिया पर ये बुत और आसमाँ कब तक

किसी की किसी को मोहब्बत नहीं है

न आया कर के व'अदा वस्ल का इक़रार था क्या था

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए