Rais Farogh's Photo'

रईस फ़रोग़

1926 - 1982 | कराची, पाकिस्तान

नई ग़ज़ल के अग्रणी पाकिस्तानी शायरों में विख्यात।

नई ग़ज़ल के अग्रणी पाकिस्तानी शायरों में विख्यात।

ग़ज़ल 33

नज़्म 32

शेर 9

लोग अच्छे हैं बहुत दिल में उतर जाते हैं

इक बुराई है तो बस ये है कि मर जाते हैं

  • शेयर कीजिए

हुस्न को हुस्न बनाने में मिरा हाथ भी है

आप मुझ को नज़र-अंदाज़ नहीं कर सकते

मेरा भी एक बाप था अच्छा सा एक बाप

वो जिस जगह पहुँच के मरा था वहीं हूँ मैं

ई-पुस्तक 2

Hum Suraj Chand Sitare

 

 

रात बहुत हवा चली

 

 

 

"कराची" के और शायर

  • नसरीन अंजुम भट्टी नसरीन अंजुम भट्टी
  • ख़ातिर ग़ज़नवी ख़ातिर ग़ज़नवी
  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • इब्न-ए-इंशा इब्न-ए-इंशा
  • जमीलुद्दीन आली जमीलुद्दीन आली
  • रसा चुग़ताई रसा चुग़ताई
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • हबीब जालिब हबीब जालिब
  • दिलावर फ़िगार दिलावर फ़िगार