Rais Farogh's Photo'

रईस फ़रोग़

1926 - 1982 | कराची, पाकिस्तान

नई ग़ज़ल के अग्रणी पाकिस्तानी शायरों में विख्यात।

नई ग़ज़ल के अग्रणी पाकिस्तानी शायरों में विख्यात।

रईस फ़रोग़

ग़ज़ल 32

शेर 9

लोग अच्छे हैं बहुत दिल में उतर जाते हैं

इक बुराई है तो बस ये है कि मर जाते हैं

  • शेयर कीजिए

हुस्न को हुस्न बनाने में मिरा हाथ भी है

आप मुझ को नज़र-अंदाज़ नहीं कर सकते

मेरा भी एक बाप था अच्छा सा एक बाप

वो जिस जगह पहुँच के मरा था वहीं हूँ मैं

अपने हालात से मैं सुल्ह तो कर लूँ लेकिन

मुझ में रू-पोश जो इक शख़्स है मर जाएगा

  • शेयर कीजिए

आएगा मेरे बाद 'फ़रोग़' इन का ज़माना

जिस दौर का मैं हूँ मिरे अशआर नहीं हैं

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

Hum Sooraj Chand Sitare

 

 

रात बहुत हवा चली

 

 

 

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

रईस फ़रोग़

ऊँची ऊँची शहनाई है

रईस फ़रोग़

किसी किसी की तरफ़ देखता तो मैं भी हूँ

रईस फ़रोग़

"कराची" के और शायर

  • परवीन शाकिर परवीन शाकिर
  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी
  • सज्जाद बाक़र रिज़वी सज्जाद बाक़र रिज़वी
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • मोहसिन एहसान मोहसिन एहसान
  • क़मर जलालवी क़मर जलालवी
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • उबैदुल्लाह अलीम उबैदुल्लाह अलीम
  • ज़ेहरा निगाह ज़ेहरा निगाह